Skip to main content

Berojgaar



आज  है  देश  का  हमारे  हाल  कुछ  ऐसा
ना  है  युवाओ  के  पास  नौकरी  ना  है  जेब  मे  पैसा
   फिर  रहे  है  मारे  ग्रेजुएट  बेचारे ...
फिर  भी  ना  कोई  बात  करे  ये  मुद्दा  है  कैसा।

टी.वी  पर  बैठ  कर  यू  तो  रोज़  मुँह  फाड़ते  है...
बेरोजगारी  पर  बात  करो  तो  ये  नेता  दूर  भागते  है।
चुनाव  से  पहले तो  लाख  नौकरियां  गिनाते  है...
जीत  जाने  के  बाद  कुर्सी,  जो  पुरानी  नौकरी  है  वो  भी  छीन  जाते  है।

ना  जाने  कब  तक  इस  बेरोजगारी  में  मरना  है...
कभी  तू  भी  कुछ  कमाएगा  ये  सवाल  अब  तो  हमारा  घर  भी  पूछता  है।
घिस  गयी  चप्पलें  जिस  बाप  की  हमको  पढ़ाने  में,
आज  भी  फ़टे  कपड़ो  में  हमारे  लिए  अपने  साहबो  से  सिफारिशें  करता  है।


हर  त्योहार  के  आने  पर  हम  अंदर  से  थोड़े  उदास  हो  जाते  है
जेब  मे  पैसे  ना  हो  तो  कहा  किसी  त्योहार  पर  नए  कपड़े  पहन  पाते  है।
जिस  माँ  ने  अपना  पेट  काट  के हमे  आजतक  पाला  है...
उस  माँ  तक  के  लिए  इस  बेरोजगारी  में  हम  कहा  कभी  कोई  खुशी  खरीद  पाते  है

हर  बार  चुनते  हम  सरकार  उनकी  जो  नौकरी दिलाने  का  वादा  करते  है...
फिर अगले  5 साल   हम  इंतज़ार  उस  वादे  का  ही  करते  है।
5 साल  के  बाद  जब  फिर  से  चुनाव  आता  है...
उस  चुनावी  वादे  में  वो  फिर  से  नौकरी  देंगे  यही  बात  दोहराते  है,
           इस  चक्कर  मे  हर  बार  बस  हम  नेताओ  पर  एक्सपेरिमेंट  ही  करते  जाते  है।
सब  अपनी  जेब  भरते  और  हमे  ठेंगा  दिखाकर  चलते  बनते  है।

                  अब  दोष  किसको  दे  किसको  कहे  हम,  गलत  हो  तुम...
हमने  पढ़ाई  अच्छे  से  नही  की  या  अपनी  कोशिशों  को  कहे  गलत  हो  तुम...
    जनसंख्या  वृद्धि  है  इस  बेरोजगारी  का  कारण  या  राजनीति  को  कहे  गलत  हो  तुम...
अपने  देश  का  मीडिया  है  जिम्मेदार  या  अपनी  जिम्मेदारियों  से  भागने  वालो  को  कहे  गलत  हो  तुम।।

      आवाज़  उठाने  वाले  भी  सभी  स्वार्थी  है।
जबतक  काम  है  तभीतक  विरोध  में  साथी  है।
काम  निकलते  ही  सबसे  पहले  ये  ही  भागते  है।
कुछ  पल  की  मदद  के  नाम  पर  अपनी  सत्ता  मांगते  है।


कब  ये  सब  होगा  खत्म  कब  मिलेगी  सभी  को  नौकरी
ये  बेरोजगारी  ऐसी  है  जैसे  बिन  सांसे  जी  रहे  हो  जिंदगी।।।

Comments

  1. Today's bitter truth....gr8 initiative to draw an attention of government....owsem lines bhai....

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पिता की जुबानी!

  तब सोचा था एक सुनहरा कल होगा। आज भले ही नौकर है कहि पर, पर कल अपना भी एक बड़ा घर होगा। आज लिखते हुए देखता हूं, अपने छोटे से बच्चे को तो बहुत गर्व होता है। खुद तो पढा लिखा नही हूं, पर उसका लिखा पढ़ लेता हूं। खूब मेहनत कर के उसे अच्छे स्कूल में भेजने की चाहत है। जो मैं ना पा सका वो सब उसे दिलाने की चाहत है। अब ड्यूटी डबल करने का समय आ गया है। मेरा बेटा अब स्कूल जाने के लायक हो गया है। उसकी फीस उसकी पढ़ाई में रुकावट ना बने, इसलिए थोड़ी बचत करने का समय आ गया है। मेरी बीवी की चाहते बिल्कुल खत्म सी हो गयी है। क्योंकि उसको भी बच्चे को पढाने की, फिक्र सी हो गयी है। उसे मालूम है पढ़ लिख जाएगा तो बड़ा साहब बनेगा, तब मेरी सारी इच्छाओं को वो, खुद ही पूरा करेगा। घर मे 24घण्टे रोशनी की व्यवस्था कर दी है। हम भले ही 2 रोटी कम खाये पर उसके लिए टिफ़िन की व्यवस्था कर दी है। अब तो बस फिक्र रहती है, कोई रुकावट न आये पढ़ाई में उसके। इधर उधर की आदतों को छोड़, उसके ट्यूशन की भी व्यवस्था कर दी है। छाती गर्व से फूल गयी माँ-बापू की, बेटे ने बोर्ड में टॉप किया। पर अंदर मन मे ये चिंता है, की अब बेटा स

Engineering Aur Pyaar (8) The End!

Chapter-8                  आने वाला कल( The End)      कई  बार  जब  हम  किसी  के  साथ  होते  है  या  जब  कोई  हमारा  बहुत  खास  बन  जाता  है,  तो  हमें  लगने  लगता  है  की  अब  यहां  से  हम  उसके  बिना  रह  नही  सकते  पर  जिंदगी  को  सुलझाने  में  हम  इतने  उलझ  जाते  है  कि  कुछ  तो  खुद  ही  भूल  जाते  है  हम  और  कुछ  भूल  जाने  का  नाटक  करते  है।           कॉलेज  के  फेयरवेल  के  कुछ  दिन  बाद  ही  हमारी  परीक्षाएं  शुरू  हो  गयी  थी,  क्योंकि  दोनों  की  परीक्षाएं  अलग  अलग  जगह  पर  थी  इसलिए  मुलाकात  नही  हो  पाती  थी।  सभी  को  इंतज़ार  था  कि  जैसे-तैसे  ये  सब  खत्म  हो  और  छुट्टियों  में  घर  जाया  जाए।  पर  इस  बार  मैं  नही  चाहता  था  कि  ये  परीक्षाएं  ये  दिन  खत्म  हो,  मैं  जैसे  समय  को  रोकने  की  सोच  में  था।  पर  ऐसा  मुमकिन  ना  था  और  हमारे  प्रैक्टिकल्स  वगैरह  सब  खत्म  हो  गए  और  2 महीने  की  छुट्टियां  हो  गयी  सब  अपने  अपने  घरों  को  चल  दिये  पर  मैं  बहाने  सोचने  में  था  लेकिन  उस  साल  हमारी  ट्रेनिंग  होनी  थी  तो  मुझे  मजबूरी  में  जाना  ही

Jindgi Aur Sapne (part-3)

# मंज़िल ~~~ कई  बार  हमें  अपनी  मंज़िल  पता  नही  होती  है,  पर  फिर  भी  हम  चलते  रहते  है  लेकिन  कहि  न  कही  रास्ते  के  किसी  मोड़  पर  जब  हम  कुछ  पल  के  लिए  रुकते  है,  तब  ख्याल  आता  है  कि  लोगो  को  देखकर  ये  जो  रास्ता  चुना  है  मैंने  क्या  इन  रास्तों  पर  चलते  हुए  कोई  मुझे  मुझ  जैसे  मिलेगा  या  फिर  शायद  एक  रोज़  इन  बेमन  के  रास्तों  पर  चलते-चलते  मैं  खुद  का  वजूद  कहि  खो  दूंगा  और  एक  दिन  शायद  किसी  मंज़िल  तक  मैं  पहुच  भी  जाऊं  लेकिन  अगले  ही  पल  मुझे  खुद  को  ढूंढना  होगा। मंज़िल  से  भटके  हुए  इंसान  पर  आधारित  एक  कविता  कृपया  इसे  पूरा  अवश्य  पढ़ें! धन्यवाद🙏 ~~~ मैं  तलाश  में  हू   खुद  के  ढूंढता  हू दर-ब-दर  अपने  ही  निशान! कभी  ख्यालो  के  पीछे  ढूंढता  हू   खुद  को, कभी  दरवाज़े  के  पीछे  तलाशता  हू ! किसी  आवाज़  का  पीछा  कर  लेता  हूं  यूही  कभी, कभी  लाख  चिल्लाने  पर  भी  सन्नाटा  पसरा  रहता  है! ना  जाने  कहा  खो  दिया  मैंने  खुद  को! कभी  परछाइयों  के  पीछे  भागता  हू , कभी  आईने  में  तलाशता  हू   खुद  को! कभी