Skip to main content

Maa!


Teri daant pr gussa ho jata tha mai
Teri hr baat kha maan pata tha mai
Tere pass rhkr bi tere saath rhna bhul jata tha mai
Tujhe na jaane kitne anjaane dukh de jata tha mai

Pr yaad hai mujhe in sb k baad bhi mere so jaane pr mere sir pr haath ferti thi tu
Subh uthne pr roz sir pr haath ghumakr meri najar utarti thi tu

Aaj  bhi  phone  krne  pr  mere  thik hone  ka  sbse  phle  swaal  krti  hai  tu
Maine  khana  khaaya  hoga  yaa  nahi bss  isi  chinta  me  rhti  hai  tu

Aaj ghar se dur aakr smjh aata hai ki roti me bi swaad hota hai
Chuttiyo me ghr jaakr Maa k haatho ka saada khana bi lagta hai jaise hotel ki mhngi thaali se bhi mhnga hota hai

Un 5.  6  dino me Maa ka pyaar paakr lgta hai jaise barso se dhup me jal rhe sarir ko ped ki chaaya mil gyi ho
Jaise kisi ruthe bacche ki hashi bss fuslane bhr se hi khil gyi ho

Pr jb waqt aata hai ghar se niklne ka laakh smbhalne pr bhi us ek chehre ko dekh aasu nikl aata hai
Naa jaane Maa kaa pyaar kyu hmpr itna bhari pd jata hai

In jimmedariyo me naa jaane kitne gamo ko smbhale baithi hai
Ek Maa hai jo apne baccho ko palne me khud ko bhulaye baithi hai

Aaj is matlab  ki duniya me ek Maa ka pyaar hi bematlab rh gya hai
Laakh jannat dhundh lo patthar k mndiro me pr milegi jannat ghar me baithi Maa k charno me

Mai likh du puri kitab Maa k naam fir bi bhut kuch adhura rh jaayega
Mai kh du bhgwan bi unko fir bi unke samman me ye shabd km pd  jaayega

In  chnd   lafzo  k   saath  hi  mai  apne  alfaazo  ko   viram  deta   hu
Kaise   khu  ae  Maa  tere  hone  se  hi  mai  khud  ko   insan  khta  hu


Comments

  1. 😢😢 these are not juz words these are imotions and feelings which can not be describe by any one.

    ReplyDelete
  2. Excellent bhai...bhav vibhor kr diya

    ReplyDelete
  3. Padh kar tho mai bhav bhivhor ho gya ..
    Kafi kuchh likh diya in chand lineo me ...
    Thanks bro...

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. Welcome bhai.. btt Kitna bi kyu na likh de bhai in risto ka pyaar smet nii paayenge...

      Delete
  4. Maa....🌹precious gem... In everyone life

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Engineering aur pyaar (3)

                            मुलाकात... यू  तो  हर  कोई  हर  किसी  के  लिए  अलग  ही  होता  है  पर  कोई  किसी  का  खास  तब  ही  बनता  है  जब  वो  खास  बनना  चाहता  है । ~~~          अब  सारी  मस्तियों  के  बीच  सर्दियों  ने  दस्तक  दे  दी  थी  और  साथ  ही  सेमेस्टर  भी  हमारे  करीब  आ  गया  था,  और  तैयारी  के  नाम  पर  मैंने  सिर्फ  प्यार  की  कविताएं  ही  लिखी  थी।  अब  जब  भी  पढ़ने  बैठता  तो  दिमाग  के  साथ  कि  गयी  थोड़ी  जोर-जबरजस्ती  काम  आ  जाती  जिससे  कुछ  देर  तो  मैं  पढ़  लेता  पर  थोड़ी  ही  देर  बाद  उसका  चेहरा ,   उसकी  आंखें ,   उसकी  हंसी  सब  जैसे  मेरी  किताबो  में  छप  गया  हो।  अब  ये  समझ  आने  लगा  था  कि  क्यों  हमे  प्यार-मोहब्बक्त  से  दूर  रहने  को  कहा  जाता  है।  कॉपी  पर  सवाल  लगाते  लगाते  कब  पेन  को  उस  कॉपी  पर  घुमाने  लग  जाता  था  कुछ  पता  ही  नही  होता  था।                 तो  अब  मैंने  तय  किया  था  कि  ये  सब  से  ध्यान  हटाना  है ।   वैसे  तो  मुझे  अकेले  पढ़ने  की  आदत  थी ,   पर  अब  मैंने  दोस्तो  के  साथ  पढ़ना  शुरू  कर  दिया।  जैसे-तै

मेरी अनकही कहानी(4)

       वो  आखिरी  पल chapter(4)                       Last chapter               कई  बार  मोहब्बक्त  में  गलतफहमियां  हो  जाती  है,  और  उस  एक  गलतफहमी  का  मुआवजा  हम  पूरी  जिंदगी  भरते  है।...  अक्सर  सफर  और  मंज़िल के  बीच  मे  ही  प्यार  दम  तोड़  देता  है  और  यही  अधूरी  कहानियां  ही  हमारे  सफर  को  खूबसूरत  बनाती  है...  कुछ  ऐसी  ही  अधूरी  कहानी  है  मेरी  जिसे  एक  हसीन  मुकाम  देकर  छोड़  दिया  मैंने  और  आजतक  उस  मोहब्बक्त  को  ना  सही  पर  उस  एक  पल  को  यादकर  जरूर  मुस्कुराता  हूं,  जब  सच  मे  मुझे  एहसास  हुआ  कि  शायद  यही  प्यार  है। प्यार  ढूंढने  में  उतना  वक़्त  नही  लगता  जनाब!  जितना  उसे  समझने  और  समझाने  में  लगता  है।। मैं  बता  रहा  था  कि  अब  हमारी  मुलाकाते  बढ़ने  लगी  थी,  अब  अक्सर  कहू  तो  हम  हर  दूसरे  दिन  मिलते  थे।  खूब  सारी  बाते  होती  थी,  वो  मुझे  अपने  बारे  में  बताती  और  मैं  उसे  उसके  ही  बारे  में  बताता।...                         वो  कहती  कि  बहुत  बोलती  हु  ना  मैं!  मैं  कहता  तुम्हारा  खामोश  रहना  च

Engineering Aur Pyaar (1)

        कॉलेज  का  पहला  दिन... (Chapter-1)                        आज  मेरा  कॉलेज  का  पहला  दिन  था...  हर  कोई  जब  पहले  दिन  कॉलेज  जाता  है  तो  ना  जाने  कितना  उत्साह  अंदर  उमड़ता  रहता  है।  सबकुछ  पाने  की  सबकुछ  देखने  की  और  बहुत  कुछ  करने  की  इच्छाएं  मन  मे  जगह  बनाती  है  और  हम  थोड़ा  डरते  भी  है... और  साथ  ही  ऐसा  लगता  है  जैसे  आसमान  में  हो  क्योंकि  अब  जाकर  पहली  बार  हम  अपने  घर  से  कही  दूर  आये  होते  है...         ऐसा  ही  कुछ  हाल  था  मेरा  आज  वो  पहला  दिन  है  जब  मैं  सच  मे  कुछ  बनने  का  सोचने  की  जगह  कुछ  बनने  की  कोशिश  करने  जा  रहा  था...   और  शायद  ये  मेरी  जिंदगी  का  पहला  ऐसा  कदम  था,  जहाँ  से  अब  सारे  रास्ते  मुझे  खुद  ही  तय  करने  थे। कॉलेज  शुरू  होने  के  2दिन  पहले  ही  मैंने  कमरा  ले  लिया  था,  हम  दो  दोस्त  साथ  ही  आये  थे  लेकिन  उसने  c.s  चुना  और  मैंने  मैकेनिकल ....  वैसे  तो  कॉलेज  में  दाखिले  के  लिए  2...3  बार  आ  चुके  थे।                      लेकिन  वो  पहला  दिन,  जब  कंधे  पर  एक  बैग