Skip to main content

मधुशाला - भाग (क)


         
आज  मैं  आपको  एक  ऐसी  कविता  पढ़ाने  जा  रहा  हु  जो  यू  तो  एक  शब्द  पर  लिखी  गयी  है  लेकिन  हर  बार  आने  वाले  इस  शब्द  का  भाव  हर  बार  अलग  है । ये  कुछ  पंक्तिया  है  "श्री  हरिवंशराय  बच्चन जी"  के  द्वारा  हिंदी  अनुवाद  की  हुई  "मधुशाला"  की -

                  1
  मृदु  भावों  के  अंगूरों  की
आज  बना  लाया  हाला,
प्रियतम,  अपने  ही  हाथों  से
आज  पिलाऊँगा  प्याला;
     पहले  भोग  लगा  लूँ  तेरा,
     फिर  प्रसाद  जग  पाएगा;
सबसे  पहले  तेरा  स्वागत
करती    मेरी    मधुशाला ।
              
                  2  
एक  बरस  में  एक  बार  ही
जगती  होली  की  ज्वाला,
एक  बार  ही  लगती  बाज़ी,
जलती  दीपों  की  माला;
    दुनिया  वालो, किन्तु, किसी  दिन
   आ  मदिरालय  में  देखो,
दिन  को  होली,  रात  दीवाली,
रोज    मनाती    मधुशाला !
              
                 3
धर्मग्रन्थ  सब  जला  चुकी  है
जिसके  अंतर  की  ज्वाला,
मन्दिर,  मस्जिद,  गिरजे-सबको
तोड़  चुका  जो  मतवाला,
      पंडित,  मोमिन,  पादरियों  के
      फंदों  को  जो  काट  चुका,
कर  सकती  है  आज  उसी  का
स्वागत    मेरी    मधुशाला ।

               4
दुतकारा  मन्दिर  ने  मुझको
कहकर  है  पीनेवाला,
ठुकराया  ठाकुरद्वारे  ने
देख  हथेली  पर  प्याला,
       कहाँ  ठिकाना  मिलता  जग  में
        भला  अभागे  काफ़िर  को ?
शरणस्थल  बनकर  न  मुझे  यदि
अपना    लेती    मधुशाला ।

                 5
पथिक  बना  मैं  घूम  रहा  हूँ,
सभी  जगह  मिलती  हाला,
सभी  जगह  मिल  जाता  साकी,
सभी  जगह  मिलता  प्याला,
        मुझे  ठहरने  का,  हे  मित्रो,
         कष्ट  नही  कुछ  भी  होता,
मिले  न  मन्दिर,  मिले  न  मस्जिद,
मिल   जाती   है   मधुशाला ।

                   6
मुसलमान  औ'  हिन्दू  हैं  दो,
एक,  मगर,  उनका  प्याला,
एक  मगर,  उनका  मदिरालय,
एक,  मगर,  उनकी  हाला;
         दोनों  रहते  एक  न  जब  तक
          मस्जिद - मन्दिर  में  जाते ;
बैर   बढ़ाते   मस्जिद - मंदिर,
मेल   कराती   मधुशाला !

                  7
कोई  भी  हो  शेख  नमाजी
या  पंडित  जपता  माला,
बैर  भाव  चाहे  जितना  हो,
मदिरा से  रखनेवाला,
          एक  बार  बस  मधुशाला  के
          आगे से होकर निकले,
देखूँ  कैसे  थाम  न  लेती
दामन   उसका   मधुशाला ।

                8
कभी  नहीं  सुन  पड़ता,  'इसने,
हा, छू दी  मेरी  हाला',
कभी  न  कोई  कहता, 'उसने
जूठा  कर  डाला  प्याला';
          सभी  जाति  के  लोग  यहाँ  पर
          साथ   बैठकर पीते   हैं;
सौ  सुधारकों  का  करती  है
काम   अकेली   मधुशाला ।

                9
नाम  अगर  पूछे  कोई  तो
कहना  बस  पीनेवाला,
काम  ढालना  और  ढलान
सबको  मदिरा  का  प्याला,
          जाति,  प्रिये,  पूछे  यदि  कोई,
          कह   देना   दीवानों   की,
धर्म  बताना,  प्यालों  की  ले
माला  जपना   मधुशाला ।

                   10
और  चिता  पर  जाय  उड़ेला
पात्र  न  घृत  का,  पर  प्याला,
घन्ट  बंधे अंगूर लता   में,
मध्य  न  जल  हो,  पर  हाला,
         प्राणप्रिये,  यदि  श्राद्ध  करो  तुम
         मेरा,  तो   ऐसे   करना -
पीनेवालों   को   बुलवाकर,
खुलवा देना   मधुशाला ।

कृपया  घर  मे  रहिये  सुरक्षित  रहिये


Comments

Popular posts from this blog

पिता की जुबानी!

  तब सोचा था एक सुनहरा कल होगा। आज भले ही नौकर है कहि पर, पर कल अपना भी एक बड़ा घर होगा। आज लिखते हुए देखता हूं, अपने छोटे से बच्चे को तो बहुत गर्व होता है। खुद तो पढा लिखा नही हूं, पर उसका लिखा पढ़ लेता हूं। खूब मेहनत कर के उसे अच्छे स्कूल में भेजने की चाहत है। जो मैं ना पा सका वो सब उसे दिलाने की चाहत है। अब ड्यूटी डबल करने का समय आ गया है। मेरा बेटा अब स्कूल जाने के लायक हो गया है। उसकी फीस उसकी पढ़ाई में रुकावट ना बने, इसलिए थोड़ी बचत करने का समय आ गया है। मेरी बीवी की चाहते बिल्कुल खत्म सी हो गयी है। क्योंकि उसको भी बच्चे को पढाने की, फिक्र सी हो गयी है। उसे मालूम है पढ़ लिख जाएगा तो बड़ा साहब बनेगा, तब मेरी सारी इच्छाओं को वो, खुद ही पूरा करेगा। घर मे 24घण्टे रोशनी की व्यवस्था कर दी है। हम भले ही 2 रोटी कम खाये पर उसके लिए टिफ़िन की व्यवस्था कर दी है। अब तो बस फिक्र रहती है, कोई रुकावट न आये पढ़ाई में उसके। इधर उधर की आदतों को छोड़, उसके ट्यूशन की भी व्यवस्था कर दी है। छाती गर्व से फूल गयी माँ-बापू की, बेटे ने बोर्ड में टॉप किया। पर अंदर मन मे ये चिंता है, की अब बेटा स

Engineering Aur Pyaar (8) The End!

Chapter-8                  आने वाला कल( The End)      कई  बार  जब  हम  किसी  के  साथ  होते  है  या  जब  कोई  हमारा  बहुत  खास  बन  जाता  है,  तो  हमें  लगने  लगता  है  की  अब  यहां  से  हम  उसके  बिना  रह  नही  सकते  पर  जिंदगी  को  सुलझाने  में  हम  इतने  उलझ  जाते  है  कि  कुछ  तो  खुद  ही  भूल  जाते  है  हम  और  कुछ  भूल  जाने  का  नाटक  करते  है।           कॉलेज  के  फेयरवेल  के  कुछ  दिन  बाद  ही  हमारी  परीक्षाएं  शुरू  हो  गयी  थी,  क्योंकि  दोनों  की  परीक्षाएं  अलग  अलग  जगह  पर  थी  इसलिए  मुलाकात  नही  हो  पाती  थी।  सभी  को  इंतज़ार  था  कि  जैसे-तैसे  ये  सब  खत्म  हो  और  छुट्टियों  में  घर  जाया  जाए।  पर  इस  बार  मैं  नही  चाहता  था  कि  ये  परीक्षाएं  ये  दिन  खत्म  हो,  मैं  जैसे  समय  को  रोकने  की  सोच  में  था।  पर  ऐसा  मुमकिन  ना  था  और  हमारे  प्रैक्टिकल्स  वगैरह  सब  खत्म  हो  गए  और  2 महीने  की  छुट्टियां  हो  गयी  सब  अपने  अपने  घरों  को  चल  दिये  पर  मैं  बहाने  सोचने  में  था  लेकिन  उस  साल  हमारी  ट्रेनिंग  होनी  थी  तो  मुझे  मजबूरी  में  जाना  ही

Jindgi Aur Sapne (part-3)

# मंज़िल ~~~ कई  बार  हमें  अपनी  मंज़िल  पता  नही  होती  है,  पर  फिर  भी  हम  चलते  रहते  है  लेकिन  कहि  न  कही  रास्ते  के  किसी  मोड़  पर  जब  हम  कुछ  पल  के  लिए  रुकते  है,  तब  ख्याल  आता  है  कि  लोगो  को  देखकर  ये  जो  रास्ता  चुना  है  मैंने  क्या  इन  रास्तों  पर  चलते  हुए  कोई  मुझे  मुझ  जैसे  मिलेगा  या  फिर  शायद  एक  रोज़  इन  बेमन  के  रास्तों  पर  चलते-चलते  मैं  खुद  का  वजूद  कहि  खो  दूंगा  और  एक  दिन  शायद  किसी  मंज़िल  तक  मैं  पहुच  भी  जाऊं  लेकिन  अगले  ही  पल  मुझे  खुद  को  ढूंढना  होगा। मंज़िल  से  भटके  हुए  इंसान  पर  आधारित  एक  कविता  कृपया  इसे  पूरा  अवश्य  पढ़ें! धन्यवाद🙏 ~~~ मैं  तलाश  में  हू   खुद  के  ढूंढता  हू दर-ब-दर  अपने  ही  निशान! कभी  ख्यालो  के  पीछे  ढूंढता  हू   खुद  को, कभी  दरवाज़े  के  पीछे  तलाशता  हू ! किसी  आवाज़  का  पीछा  कर  लेता  हूं  यूही  कभी, कभी  लाख  चिल्लाने  पर  भी  सन्नाटा  पसरा  रहता  है! ना  जाने  कहा  खो  दिया  मैंने  खुद  को! कभी  परछाइयों  के  पीछे  भागता  हू , कभी  आईने  में  तलाशता  हू   खुद  को! कभी