Skip to main content

पलायन (मजदूर)

#पलायन

असली  तस्वीर  यही  है  हमारे  देश  की  और  इस  देश  की  नींव  भी  इन्ही  से  है ।

ये  पहचान  है  हमारे  भारत  की  और  हमारे  देश  की  पहचान  भी  इन्ही  से  है ।


मैं  लिख  तो  रहा  हू  पर  कुछ  कह  नही  सकता ।
आंखों  में  आंसू  भरने  के  अलावा  कुछ  कर  नही  सकता ।
वो  गरीब  है  जो  खुद्दारी  से  कमा  कर  खाते  थे ,
अब  कैसे  मान  ले  इतनी  मेहनत  के  बाद  भी,  अब  वो  जी  नही  सकता ।

ना  रहने  को  घर  बचा  है  नाही  खाने  को  खाना ।
ऐसे  में  पलायन  क्यों  ना  करे  एक  गरीब  बेचारा ।
सरकारें  दावा  कर  रही  है  हम  देते  है  सभी  को  खाने  को  रोटी ,
अगर  ऐसा  है  तो  क्यों,  सड़को  पर  फिर  रहा  मजदूरो  का  परिवार  मारा  मारा ।

एक  बीमारी  में  पूरे  देश  का  इतिहास  खुल  कर  सामने  आ  गया ।
किस  नेता  ने  कितना  काम  किया  लोगो  के  लिए ,  सब  निकल  के  आ  गया ।
हमने  गरीबी  खत्म  ना  कि  बस  गरीबी  को  छुपाते  रह  गए ।
एक  बीमारी  की  वजह  से  देश  का  असली  चेहरा  बाहर  आ  गया ।

कुछ  कहने  को  बचा  नही  है  अब  तो ।
कुछ  करने  को  रहा  नही  है  अब  तो ।
एक  घर  बनाने  की  आस  में  निकले  थे  गाँव  से  दूर ,
इस  बीमारी  के  खौफ  में  जीने  की  आस  भी  नही  है  अब  तो ।

कोई  बच्चे  को  गोद  में  लेकर  चल  रहा,  तो  किसी  का  रास्ते  मे  ही  गर्भपात  हो  रहा ।
मन्ज़िल  बहुत  दूर  है  ये  वो  छोटी  बच्ची  भी  जानती  है,  पर  पेट  भरने  के  लिए  ही  तो  उसका  घर  की  ओर  पलायन  हो  रहा ।

हमारे  देश  की  बड़ी  दुखद  कहानी  है ।
यहाँ  गंगा  तो  बहती  है  पर  आज  इन   मजदूरों  की  आंखों  में  भरा  पानी  है ।
ये  बीमारी  तो  उन्हें  बाद  में  मारेगी ,
अभी  तो  लगता  है  जैसे  घर  पहुचने  की  आस  में  मरने  की  बारी  है ।

मरना  तो  है  सभी  को  एक  रोज़  ये  सब  जानते  है ।
पर  मौत  से  पहले  मरना  भी  कौन  चाहते  है ।
बीमारी  फैलाने  वाले  तो  घरो  में  बंद  हो  गए,
जो  पहले  ही  गरीबी  से  लड़  रहे  थे  वो  अब  बस  एक  वक़्त  की  रोटी  मांगते  है ।

कुछ  लोगो  ने  बीमारी  फैलाने  की  हर  तरह  से  कोशिशे  की ,
कुछ  ने  तो  फलों  पर  भी  थूक  है  लगाकर  बेची ,
ये  मजदूर  गरीब  जरूर  है  पर  देशभक्ति  जानते  है ।
इन्होंने  अपने  साथ  किसी  को  भी  नुकसान  पहुचाने  की  कोशिश  नही  की ।

कुछ  तो  पैदल  चल  कर  किसी  हालत  में  घर  पहुच  गए ।
कुछ  बेचारे  घर  पहुचने  की  आस  में  रास्ते  मे  ही  दम  तोड़  गए ।
अब  किससे  करे  शिकायत  किसको  कहे  गलत  हो  तुम ,
वो  गरीब  मजदूर  है  साहब  वो  पलायन  करने  को  मजबूर  हो  गए ।

वो  मजदूर  तो  मेहनत  की  दो  रोटी  कमाता  था  इस  उम्मीद  के  साथ  की  एक  रोज़  कहि  पर  छोटा  सा  आशियाना  बनाकर  खुद  को  और  अपने   परिवार  को  सुरक्षित  करेगा  पर  उसे  क्या  पता  था  कि  जिस  परिवार  की  सुरक्षा  के  लिए  वो  इतनी  कड़ी  मेहनत  कर  रहा  था  उसी  परिवार  को  लेकर  एक  दिन  ना  जाने  कितने  कोश  दूर  नंगे  पांव  ही  चलना  होगा
उन्हें  क्या  पता  था  कि  उनके  इस  हालत  का  भी  कोई  राजनीतिक  पहलू  बन  जायेगा  जिसका  देश  भर  में  सब  मजाक  बना  देंगे ।



Comments

  1. अति सुन्दर

    ReplyDelete
  2. दिल को छू जाने वाला कड़वा सच।कहीं न कही ये ब्यान होता है कि हम अभी कितने पिछड़े हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल सही बात कही है आपने । ये बीमारी हमे खुद में झांकने का मौका दे रही है कि हमे हमेशा सिर्फ जातीवाद में रहकर अपने देश को खाई में धकेलना है, या फिर एकजुट होकर इस देश को उजाले की तरफ ले आना है।

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पिता की जुबानी!

  तब सोचा था एक सुनहरा कल होगा। आज भले ही नौकर है कहि पर, पर कल अपना भी एक बड़ा घर होगा। आज लिखते हुए देखता हूं, अपने छोटे से बच्चे को तो बहुत गर्व होता है। खुद तो पढा लिखा नही हूं, पर उसका लिखा पढ़ लेता हूं। खूब मेहनत कर के उसे अच्छे स्कूल में भेजने की चाहत है। जो मैं ना पा सका वो सब उसे दिलाने की चाहत है। अब ड्यूटी डबल करने का समय आ गया है। मेरा बेटा अब स्कूल जाने के लायक हो गया है। उसकी फीस उसकी पढ़ाई में रुकावट ना बने, इसलिए थोड़ी बचत करने का समय आ गया है। मेरी बीवी की चाहते बिल्कुल खत्म सी हो गयी है। क्योंकि उसको भी बच्चे को पढाने की, फिक्र सी हो गयी है। उसे मालूम है पढ़ लिख जाएगा तो बड़ा साहब बनेगा, तब मेरी सारी इच्छाओं को वो, खुद ही पूरा करेगा। घर मे 24घण्टे रोशनी की व्यवस्था कर दी है। हम भले ही 2 रोटी कम खाये पर उसके लिए टिफ़िन की व्यवस्था कर दी है। अब तो बस फिक्र रहती है, कोई रुकावट न आये पढ़ाई में उसके। इधर उधर की आदतों को छोड़, उसके ट्यूशन की भी व्यवस्था कर दी है। छाती गर्व से फूल गयी माँ-बापू की, बेटे ने बोर्ड में टॉप किया। पर अंदर मन मे ये चिंता है, की अब बेटा स

Engineering Aur Pyaar (8) The End!

Chapter-8                  आने वाला कल( The End)      कई  बार  जब  हम  किसी  के  साथ  होते  है  या  जब  कोई  हमारा  बहुत  खास  बन  जाता  है,  तो  हमें  लगने  लगता  है  की  अब  यहां  से  हम  उसके  बिना  रह  नही  सकते  पर  जिंदगी  को  सुलझाने  में  हम  इतने  उलझ  जाते  है  कि  कुछ  तो  खुद  ही  भूल  जाते  है  हम  और  कुछ  भूल  जाने  का  नाटक  करते  है।           कॉलेज  के  फेयरवेल  के  कुछ  दिन  बाद  ही  हमारी  परीक्षाएं  शुरू  हो  गयी  थी,  क्योंकि  दोनों  की  परीक्षाएं  अलग  अलग  जगह  पर  थी  इसलिए  मुलाकात  नही  हो  पाती  थी।  सभी  को  इंतज़ार  था  कि  जैसे-तैसे  ये  सब  खत्म  हो  और  छुट्टियों  में  घर  जाया  जाए।  पर  इस  बार  मैं  नही  चाहता  था  कि  ये  परीक्षाएं  ये  दिन  खत्म  हो,  मैं  जैसे  समय  को  रोकने  की  सोच  में  था।  पर  ऐसा  मुमकिन  ना  था  और  हमारे  प्रैक्टिकल्स  वगैरह  सब  खत्म  हो  गए  और  2 महीने  की  छुट्टियां  हो  गयी  सब  अपने  अपने  घरों  को  चल  दिये  पर  मैं  बहाने  सोचने  में  था  लेकिन  उस  साल  हमारी  ट्रेनिंग  होनी  थी  तो  मुझे  मजबूरी  में  जाना  ही

Jindgi Aur Sapne (part-3)

# मंज़िल ~~~ कई  बार  हमें  अपनी  मंज़िल  पता  नही  होती  है,  पर  फिर  भी  हम  चलते  रहते  है  लेकिन  कहि  न  कही  रास्ते  के  किसी  मोड़  पर  जब  हम  कुछ  पल  के  लिए  रुकते  है,  तब  ख्याल  आता  है  कि  लोगो  को  देखकर  ये  जो  रास्ता  चुना  है  मैंने  क्या  इन  रास्तों  पर  चलते  हुए  कोई  मुझे  मुझ  जैसे  मिलेगा  या  फिर  शायद  एक  रोज़  इन  बेमन  के  रास्तों  पर  चलते-चलते  मैं  खुद  का  वजूद  कहि  खो  दूंगा  और  एक  दिन  शायद  किसी  मंज़िल  तक  मैं  पहुच  भी  जाऊं  लेकिन  अगले  ही  पल  मुझे  खुद  को  ढूंढना  होगा। मंज़िल  से  भटके  हुए  इंसान  पर  आधारित  एक  कविता  कृपया  इसे  पूरा  अवश्य  पढ़ें! धन्यवाद🙏 ~~~ मैं  तलाश  में  हू   खुद  के  ढूंढता  हू दर-ब-दर  अपने  ही  निशान! कभी  ख्यालो  के  पीछे  ढूंढता  हू   खुद  को, कभी  दरवाज़े  के  पीछे  तलाशता  हू ! किसी  आवाज़  का  पीछा  कर  लेता  हूं  यूही  कभी, कभी  लाख  चिल्लाने  पर  भी  सन्नाटा  पसरा  रहता  है! ना  जाने  कहा  खो  दिया  मैंने  खुद  को! कभी  परछाइयों  के  पीछे  भागता  हू , कभी  आईने  में  तलाशता  हू   खुद  को! कभी