Skip to main content

मातृ दिवस (mother's_ day)


एक  शब्द  ऐसा  है,  जिसका  कोई  अर्थ  नही ।
एक  शब्द  ऐसा  है,  जिसका  और  कोई  नाम  नही ।
एक  शब्द  ऐसा  है,  जिसके  ना  होने  से  जैसे  बिना  दिल  के  धड़कन  धड़कती  है ।
एक  शब्द  ऐसा  है,  जिसकी  कमी  ऐसी  है  जैसे  नाव  बिन  पानी  के  नदी  में  उतरती  है ।
ये  एक  शब्द  इतना  विशाल  और  अविश्वनीय  है  जिसे  मैं  कितना  भी  लिख  लू  खत्म  हो  नही  सकता ।

इस  एक  दिन  से  उस  शब्द  का  सम्मान  नही  होता ।
वो  एक  शब्द  'माँ' है,  जिसे  पूरा  जीवन  भी  दे  दे  तो  भी  इंसान  कृतार्थ  नही  होता ।

माँ  जो  खुद  को  दुखो  में  तड़पाकर अपने  बच्चे  को  खुशियों  की  छावं  देती  है ।
माँ  जो  खुद  को  भूख  से  जलाकर  अपने  बच्चे  के  पेट  को  रोटी  की  आंच  देती  है ।
वो  माँ  ही  होती  है  जो  ना  जाने  कितनी  पीड़ाओं  को  सहकर  अपने  बच्चे  को  नव  महीने  कोख़  में  आराम  देती  है ।

माँ  का  प्यार  ही  है,  जो  कभी  बटता  नही ।
माँ  का  दुलार  ही  है,  जो  कभी  घटता  नही ।
बच्चा  कितना  भी  दुःख  को  छिपाए  पर  माँ  से  छिपता  नही ।
वही  बच्चा  बड़ा  हो  जाये  तो  उसे  माँ  की  हंसी  में  छिपा  आंसू  कभी  दिखता  नही ।

बच्चे  के  दूर  होने  पर  माँ  का  हर  रोज़  फोन  आना ।
तू  ठीक  तो  है  ना  बार  बार  बस  यही  सवाल  दोहराना ।
खाने  के  सवाल  पर  आवाज़  में  थोड़ा  ठहराव  आना ।
वो  माँ  है  जिससे  मुश्किल  है  कुछ  भी  छिपा  पाना ।
हर  एक  माँ  अपने  बच्चे  की  पहली  टीचर  होती  है ।
हर  एक  माँ  अपने  बच्चे  को  चोट  लगने  पर  उससे  ज्यादा  रोती  है ।
मैं  क्या  लिखूं  उस  माँ  पर  जो  भगवान  से  भी  बढ़कर  है ।
वो  माँ  है  जो  अपने  आँचल  में  ना  जाने  कितने  शब्दो  को  पिरोती  है ।

कहते  है  भगवान  का  रूप  होती  है  माँ !
कुछ  कहते  है  उनसे  भी  ऊपर  होती  है  माँ !
मैं  क्या  कहूं  कभी  भगवान  को  तो  देखा  नही  मैंने,
पर  सच  कहते  है  सब  की  सबसे  ऊपर  और  सबसे  पहले  होती  है  माँ !

कितनी  बार  उस  माँ  को  भी  अपमान  सहना  पड़ता  है ।
जितना  सम्मान  होना  चाहिए  माँ  का  उतना  कौन  करता  है ।
अगर  सच  में  इस  दिखावे  की  दुनिया  में  माँ  के  लिए  औलादों  का  इतना  प्यार  होता ।
तो  कसम  से  यारो  हमारे  यहां  एक  भी  बृद्धाश्रम  ना  होता ।

माँ! ये  शब्द  एक  समुन्दर  है, जिसमे  ना  जाने  कितना  प्यार,  कितना  दुलार,  कितनी  सहनशक्ति,  कितना  दुख, कितनी  खुशी  और  ना  जाने  कितनी  ही  ऐसी  शक्तिया  निहित  है  जिन्हें  शब्दो  में  बयां  कर  पाना  मुमकिन  हो  नही  सकता ।

#mother's_day



Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Engineering aur pyaar (3)

                            मुलाकात... यू  तो  हर  कोई  हर  किसी  के  लिए  अलग  ही  होता  है  पर  कोई  किसी  का  खास  तब  ही  बनता  है  जब  वो  खास  बनना  चाहता  है । ~~~          अब  सारी  मस्तियों  के  बीच  सर्दियों  ने  दस्तक  दे  दी  थी  और  साथ  ही  सेमेस्टर  भी  हमारे  करीब  आ  गया  था,  और  तैयारी  के  नाम  पर  मैंने  सिर्फ  प्यार  की  कविताएं  ही  लिखी  थी।  अब  जब  भी  पढ़ने  बैठता  तो  दिमाग  के  साथ  कि  गयी  थोड़ी  जोर-जबरजस्ती  काम  आ  जाती  जिससे  कुछ  देर  तो  मैं  पढ़  लेता  पर  थोड़ी  ही  देर  बाद  उसका  चेहरा ,   उसकी  आंखें ,   उसकी  हंसी  सब  जैसे  मेरी  किताबो  में  छप  गया  हो।  अब  ये  समझ  आने  लगा  था  कि  क्यों  हमे  प्यार-मोहब्बक्त  से  दूर  रहने  को  कहा  जाता  है।  कॉपी  पर  सवाल  लगाते  लगाते  कब  पेन  को  उस  कॉपी  पर  घुमाने  लग  जाता  था  कुछ  पता  ही  नही  होता  था।                 तो  अब  मैंने  तय  किया  था  कि  ये  सब  से  ध्यान  हटाना  है ।   वैसे  तो  मुझे  अकेले  पढ़ने  की  आदत  थी ,   पर  अब  मैंने  दोस्तो  के  साथ  पढ़ना  शुरू  कर  दिया।  जैसे-तै

मेरी अनकही कहानी(4)

       वो  आखिरी  पल chapter(4)                       Last chapter               कई  बार  मोहब्बक्त  में  गलतफहमियां  हो  जाती  है,  और  उस  एक  गलतफहमी  का  मुआवजा  हम  पूरी  जिंदगी  भरते  है।...  अक्सर  सफर  और  मंज़िल के  बीच  मे  ही  प्यार  दम  तोड़  देता  है  और  यही  अधूरी  कहानियां  ही  हमारे  सफर  को  खूबसूरत  बनाती  है...  कुछ  ऐसी  ही  अधूरी  कहानी  है  मेरी  जिसे  एक  हसीन  मुकाम  देकर  छोड़  दिया  मैंने  और  आजतक  उस  मोहब्बक्त  को  ना  सही  पर  उस  एक  पल  को  यादकर  जरूर  मुस्कुराता  हूं,  जब  सच  मे  मुझे  एहसास  हुआ  कि  शायद  यही  प्यार  है। प्यार  ढूंढने  में  उतना  वक़्त  नही  लगता  जनाब!  जितना  उसे  समझने  और  समझाने  में  लगता  है।। मैं  बता  रहा  था  कि  अब  हमारी  मुलाकाते  बढ़ने  लगी  थी,  अब  अक्सर  कहू  तो  हम  हर  दूसरे  दिन  मिलते  थे।  खूब  सारी  बाते  होती  थी,  वो  मुझे  अपने  बारे  में  बताती  और  मैं  उसे  उसके  ही  बारे  में  बताता।...                         वो  कहती  कि  बहुत  बोलती  हु  ना  मैं!  मैं  कहता  तुम्हारा  खामोश  रहना  च

Engineering Aur Pyaar (1)

        कॉलेज  का  पहला  दिन... (Chapter-1)                        आज  मेरा  कॉलेज  का  पहला  दिन  था...  हर  कोई  जब  पहले  दिन  कॉलेज  जाता  है  तो  ना  जाने  कितना  उत्साह  अंदर  उमड़ता  रहता  है।  सबकुछ  पाने  की  सबकुछ  देखने  की  और  बहुत  कुछ  करने  की  इच्छाएं  मन  मे  जगह  बनाती  है  और  हम  थोड़ा  डरते  भी  है... और  साथ  ही  ऐसा  लगता  है  जैसे  आसमान  में  हो  क्योंकि  अब  जाकर  पहली  बार  हम  अपने  घर  से  कही  दूर  आये  होते  है...         ऐसा  ही  कुछ  हाल  था  मेरा  आज  वो  पहला  दिन  है  जब  मैं  सच  मे  कुछ  बनने  का  सोचने  की  जगह  कुछ  बनने  की  कोशिश  करने  जा  रहा  था...   और  शायद  ये  मेरी  जिंदगी  का  पहला  ऐसा  कदम  था,  जहाँ  से  अब  सारे  रास्ते  मुझे  खुद  ही  तय  करने  थे। कॉलेज  शुरू  होने  के  2दिन  पहले  ही  मैंने  कमरा  ले  लिया  था,  हम  दो  दोस्त  साथ  ही  आये  थे  लेकिन  उसने  c.s  चुना  और  मैंने  मैकेनिकल ....  वैसे  तो  कॉलेज  में  दाखिले  के  लिए  2...3  बार  आ  चुके  थे।                      लेकिन  वो  पहला  दिन,  जब  कंधे  पर  एक  बैग