Skip to main content

Bollywood(बदलाव जरूरी है)

मुझे  पता  है,  कि  आप  सब  मेरी  अनकही  कहानी  के  अगले  पार्ट  का  इंतज़ार  कर  रहे  है।  लेकिन  फिलहाल  इस  दौरान  एक  घटना  ऐसी  घटी  जिसने  मुझे  इसपर  लिखने  को  मजबूर  कर  दिया  है।

आज  ना  जाने  क्यों  बहुत  डरने  लगा  हू  मैं,  खुद  के  लिए  या  कहू  तो  हमसब  के  लिए।  हमसब  जो  किसी न किसी  सपने  से  जुड़े  है,  हमसब  जो  कोई न कोई  ऐसी  ख्वाहिश  रखते  है  जो  हमे  दुसरो  से  अलग  करती  है।  पर  क्या  हमारा  हमारे  सपनो  को  पूरा  करना  अपनी  ख्वाहिशो  को  पंख  देना  किसी  और  के  लिए  खतरा  बन  सकता  है?     ये  हादसा  इसे  ही  दरसाता  है...

वैसे  तो  मैं  उस  बन्दे  को  जानता  नही  था  और  शायद  ही  कभी  उससे  मिलता  भी,  लेकिन  ना  जाने  क्यों  उसकी  मौत  ने  मुझे  झकझोर  के  रख  दिया  है  और  मेरे  जैसे  कई  है  जिन्हें  इस  हादसे  से  तकलीफ  हुई  है  दिल  टूट  गया  है।                 ये  हादसा  जो  उस  शक्श  से  जुड़ा  है,  जो  एक  शानदार  अभिनेता  एक  अच्छा  इंसान  और  एक  ऐसा  व्यक्ति  था  जिसकी  पूरी  जिंदगी  सपनो  से  भरी  थी।      उसकी  गलती  सिर्फ  इतनी  थी  कि  उसने  अपनी  अदाकारी  और  अपने  सपनो  से  कइयों  को  डरा  दिया  था।   

काई पो चे  से  पहचान  बनाया !
एम एस धोनी  से  नाम  था  कमाया !
छिछोरे  से  जिसने  सभी  को  सबक  सिखाया !
अब  कैसे  मान  लू  मैं,  की  ऐसे  इंसान  ने  आत्महत्या  जैसा  कदम  है  उठाया ।

    किसी  का  डर  क्या  हो  सकता  है?  उसका  छोटी  जगह  से  आना  या  फिर  कम  समय  मे  ज्यादा  नाम  कमाना  या  फिर  अपने  नाम  और  पहचान  से  समझौता  ना  करना। 

आज  हम  दुखी  है, नाराज़  है,  गुस्सा  है,  क्योंकि  हमने  किसी  के  दर्द  को  महसूस  किया  है।  पर  हमें  ये  समझना  चाहिए  कि  हमने  देर  कर  दी  क्योंकि  ये  पहली  बार  नही  हो  रहा  है। ये  जो  nepotism  का  नारा  हम  दे  रहे  है  इसकी  वजह  से  ये  पहली  मौत  नही  हुई  है। क्या  ये  कुछ  लोग  जिनके  नाम  आज  उछल  रहे  है  इन्होंने  पहली  बार  ऐसा  किया  है?
  
अगर  हम  ये  लगता  है,  कि  ये  पहली  बार  हुआ  है  तो  हमे  याद  करना  चाहिए  कि  गुरुदत्त... दिव्या भारती... जिया खान... या  श्रीदेवी  जो  एक  बार  फिर  मूवीज  की  तरफ  रुख  कर  रही  थी  इनसब   की  मौत  का  रहस्य  किनसे  जुड़ा  है,  या  कहे  कि  ये  सब  जानते  हुए  भी  हमने  कुछ  नही  किया  और  ना  जाने  कितने  और  है  जो  इस  लिस्ट  में  नही  है,  या  कहू  की  वो  जिंदा  बच  गए।  फिर  चाहे  वो  विवेक ओबेरॉय  हो,  कंगना रनौत  हो  या  देओल परिवार  या  फिर  ऐसे  ही  और  भी  है  जो  इनके  अनुसार  नही  चले  और  उन्हें  बाहर  कर  दिया  गया। ये  वो  है  जिनके  मरने  का  हम  इंतज़ार  कर  रहे  है,  क्योंकि  हमें  तो  बहाना  चाहिए  वीडिओज़  बनाने  का  कीचड़  उछालने  और  विरोध  करने  का  जो  कि  कभी  हम  सचमुच  में  करते  ही    नही  है।  क्योंकि  हमने  ही  इन्हें  बढ़ावा  दिया  है  हमने  ही  इन्हें  ये  दिखाया  है  कि  हम  सिर्फ  और  सिर्फ  गरजने  वाले  बादल  है।       

       हम  आज  भले  ही  कितना  भी  च्चिल्ला  ले,  लेकिन  कल  फिर  हम  उठेंगे  और  फिर  उन्हें  ही  मौका  देंगे  अपने  बीच  रहने  का।  अगर  आज  मुझसे  कोई  कहता  है  कि  शुशांत सिंह राजपूत  और  उसके  जैसे  और  जो  मरे  उसके  पीछे  बॉलीवुड  के  माफियाओ  का  हाथ  है  तो  मैं  कहूंगा
गलत  है।  क्योंकि  इसके  जिम्मेदार  हम  और  आप  है।  उन्हें  माफिया  बनाया  किसने  हमने,  उन्हें  इतने  ऊपर  पहुचाया  किसने  हमने,  उनकी  इतनी  हिम्मत  बढ़ाई  किसने  हमने,  क्योंकि  हम  सबकुछ  जानते  हुए  भी  हमेसा  अनजान  बने  रहे।
हम  एक  चैरिटी  के  नाम  पर  5 हत्या  करने  वाले  को  सज़ा  ना  हो  उसके  लिए  भगवान  से  प्रार्थना  करते  है... वो  जो  सिर्फ  उन्हें  मौका  देता  है,  जिन्हें  कुछ  नही  आता  क्योंकि  वो  बड़े  स्टार  के  बच्चे  है  उसकी  कॉफ़ी  पर  खुश  होते  है।  हमे  तो  swag  दिखाने  वाले  अच्छे  लगते  है  मेहनत वाले  कहा  हक़  के  काबिल  होते  है।


अगर  कई  पहलुओ  पर  नजर  डाले  तो  ऐसा  लगता  है,  जैसे  बॉलीवुड  कुछ  ऐसे  धर्म  विशेष  की  मुट्ठी  में  है,  जो  ये  नही  चाहते  कि  छोटी  जगह  और  अपने  दम  पर  अपने  नाम  और  पहचान  के  साथ  कोई  आगे  बढ़  जाये  बिना  उन्हें  गॉडफादर  माने,  बिना  अपने  आपको  उनके  हिसाब  से  बदले।
मुझे  आज  सिर्फ  इतना  ही  कहना  है,  कि  हम  और  आप  अगर  इस  मुद्दे  को  आज  फिर  यूही  बातो  में  गवा  देंगे,  तो  फिर  कोई  शुशांत सिंह  इसी  हालत  में  मिलेगा  और  उसके  जिम्मेदार  हम  ही  होंगे,              अगर  आज  हमे  कुछ  बदलना  है,  तो सबसे  पहले  खुद  को  बदलना  होगा।  हमे  सिर्फ  बहिष्कार  बोलना  ही  नही  है,  हमे  इनका  बहिष्कार  कर  के  दिखाना  होगा,  और  ये  सबक  देना  होगा  कि  हमे  सपने  देखने  वालों  की  कदर  है,  हमे  कदर  है  उनकी  जो  अपनी  अदाकारी  से  अपनी  मेहनत  से  अपनी  जगह  बनाते  है।  हम  उन्हें  अपने  दिलो  में  जगह  देंगे  जो  खुद  को  इनसब  से  दूर  रखकर  सिर्फ  अपने  काम  से  अपने  आपको  साबित  करते  है।  और  अगर  हम  ये  नही  कर  सकते  तो  हमे  किसी  को  बुरा  कहने  का  भी  हक़  नही  है।।






Comments

  1. Excellent. This is really a slap on those faces who say them selves a member of so called bollywood family. Actually this incident is really an irking moment for those viewers or followers who really appreciate talent. And calling this a suicide is cheat for them.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पिता की जुबानी!

  तब सोचा था एक सुनहरा कल होगा। आज भले ही नौकर है कहि पर, पर कल अपना भी एक बड़ा घर होगा। आज लिखते हुए देखता हूं, अपने छोटे से बच्चे को तो बहुत गर्व होता है। खुद तो पढा लिखा नही हूं, पर उसका लिखा पढ़ लेता हूं। खूब मेहनत कर के उसे अच्छे स्कूल में भेजने की चाहत है। जो मैं ना पा सका वो सब उसे दिलाने की चाहत है। अब ड्यूटी डबल करने का समय आ गया है। मेरा बेटा अब स्कूल जाने के लायक हो गया है। उसकी फीस उसकी पढ़ाई में रुकावट ना बने, इसलिए थोड़ी बचत करने का समय आ गया है। मेरी बीवी की चाहते बिल्कुल खत्म सी हो गयी है। क्योंकि उसको भी बच्चे को पढाने की, फिक्र सी हो गयी है। उसे मालूम है पढ़ लिख जाएगा तो बड़ा साहब बनेगा, तब मेरी सारी इच्छाओं को वो, खुद ही पूरा करेगा। घर मे 24घण्टे रोशनी की व्यवस्था कर दी है। हम भले ही 2 रोटी कम खाये पर उसके लिए टिफ़िन की व्यवस्था कर दी है। अब तो बस फिक्र रहती है, कोई रुकावट न आये पढ़ाई में उसके। इधर उधर की आदतों को छोड़, उसके ट्यूशन की भी व्यवस्था कर दी है। छाती गर्व से फूल गयी माँ-बापू की, बेटे ने बोर्ड में टॉप किया। पर अंदर मन मे ये चिंता है, की अब बेटा स

Engineering Aur Pyaar (8) The End!

Chapter-8                  आने वाला कल( The End)      कई  बार  जब  हम  किसी  के  साथ  होते  है  या  जब  कोई  हमारा  बहुत  खास  बन  जाता  है,  तो  हमें  लगने  लगता  है  की  अब  यहां  से  हम  उसके  बिना  रह  नही  सकते  पर  जिंदगी  को  सुलझाने  में  हम  इतने  उलझ  जाते  है  कि  कुछ  तो  खुद  ही  भूल  जाते  है  हम  और  कुछ  भूल  जाने  का  नाटक  करते  है।           कॉलेज  के  फेयरवेल  के  कुछ  दिन  बाद  ही  हमारी  परीक्षाएं  शुरू  हो  गयी  थी,  क्योंकि  दोनों  की  परीक्षाएं  अलग  अलग  जगह  पर  थी  इसलिए  मुलाकात  नही  हो  पाती  थी।  सभी  को  इंतज़ार  था  कि  जैसे-तैसे  ये  सब  खत्म  हो  और  छुट्टियों  में  घर  जाया  जाए।  पर  इस  बार  मैं  नही  चाहता  था  कि  ये  परीक्षाएं  ये  दिन  खत्म  हो,  मैं  जैसे  समय  को  रोकने  की  सोच  में  था।  पर  ऐसा  मुमकिन  ना  था  और  हमारे  प्रैक्टिकल्स  वगैरह  सब  खत्म  हो  गए  और  2 महीने  की  छुट्टियां  हो  गयी  सब  अपने  अपने  घरों  को  चल  दिये  पर  मैं  बहाने  सोचने  में  था  लेकिन  उस  साल  हमारी  ट्रेनिंग  होनी  थी  तो  मुझे  मजबूरी  में  जाना  ही

Jindgi Aur Sapne (part-3)

# मंज़िल ~~~ कई  बार  हमें  अपनी  मंज़िल  पता  नही  होती  है,  पर  फिर  भी  हम  चलते  रहते  है  लेकिन  कहि  न  कही  रास्ते  के  किसी  मोड़  पर  जब  हम  कुछ  पल  के  लिए  रुकते  है,  तब  ख्याल  आता  है  कि  लोगो  को  देखकर  ये  जो  रास्ता  चुना  है  मैंने  क्या  इन  रास्तों  पर  चलते  हुए  कोई  मुझे  मुझ  जैसे  मिलेगा  या  फिर  शायद  एक  रोज़  इन  बेमन  के  रास्तों  पर  चलते-चलते  मैं  खुद  का  वजूद  कहि  खो  दूंगा  और  एक  दिन  शायद  किसी  मंज़िल  तक  मैं  पहुच  भी  जाऊं  लेकिन  अगले  ही  पल  मुझे  खुद  को  ढूंढना  होगा। मंज़िल  से  भटके  हुए  इंसान  पर  आधारित  एक  कविता  कृपया  इसे  पूरा  अवश्य  पढ़ें! धन्यवाद🙏 ~~~ मैं  तलाश  में  हू   खुद  के  ढूंढता  हू दर-ब-दर  अपने  ही  निशान! कभी  ख्यालो  के  पीछे  ढूंढता  हू   खुद  को, कभी  दरवाज़े  के  पीछे  तलाशता  हू ! किसी  आवाज़  का  पीछा  कर  लेता  हूं  यूही  कभी, कभी  लाख  चिल्लाने  पर  भी  सन्नाटा  पसरा  रहता  है! ना  जाने  कहा  खो  दिया  मैंने  खुद  को! कभी  परछाइयों  के  पीछे  भागता  हू , कभी  आईने  में  तलाशता  हू   खुद  को! कभी