Skip to main content

दोस्ती...



किसी  ने  सही  कहा  है  कि  जो  खर्च  हो  जाता  है  वो  वापस  कभी  नही  मिलता  फिर  चाहे  वो  पैसा  हो  या  वक़्त।  वो  वक़्त  जिसकी  रफ्तार  भी  धीमी  पड़  जाती  थी  जब  वो  साथ  होते  थे  और  वही  वक़्त  रेत  की  तरह  मुट्ठी  से  निकल  जाता  था  जब  अकेलेपन  में  वो  साथ  देने  आते  थे।

  कुछ  ऐसे  ही  किस्से  लिख  रहा  हू  उन  दोस्तो  के  नाम  जिन्होंने  जिंदगी  को  जिंदगी  बनाया   है-

बहुत  दिनों  बाद  पुराने  दोस्तों  से  मुलाकात  हुई  मिलते  ही  दिल  मे  दबी  खुशनुमा  यादों  की  बरसात  हुई।  वो  झगड़े  जो  हम  एकदूसरे  से  करते  थे,  जो  कोई  और  कर  ले  तो  उसे  सब  साथ  ही  मारने  निकलते  थे। 
वो  बाते  जो  एक  दूसरे  की  खिंचाई  से  शुरु  होती  थी।  वो  राते  जो  ताश  की  गड्डियों  की  शर्तों  में  गुजरती  थी।  कभी उदास  होने  पर  साली  गालिया  भी  पड़ती थी।  सेमेस्टर  के  दो  दिन  पहले  तो  किताबो  से  धूल  हटती  थी।                
       वैसे  तो  कुछ  खास  समय  बचता  नही  था  हमारे  पास  पर  फिर  भी  सुबह  शाम  के  ना  जाने  कितने  घण्टे  चाय  की  तफरी  पर  कटती  थी। 
                       वो  बर्थडे  की  रात  को  जागकर  उसे  लात  मार  कितना  सुकून  मिलता  था,  और  फिर  उसे  आराम  दिलाये  बिना  हमारी  पलक  भी  कहा  झपकती  थी।  बर्थडे  का  केक  तो  कभी  कटता  ही  नही  था,  वो  तो  बस  हाथ  में  कितना  आ  जाये  बस  इसी  पर  बर्थडे  मनता  था। याद  है  मुझे  वो  ठंडी  की  राते  जब  आग  के  आगे  बैठ  हम  पैसे  जोड़ा  करते  थे  थोड़े  थोड़े  ही  जोड़कर  सबके  लिए  बियर  की  व्यवस्था  करते  थे।  एक  ऐसा  भी  रहता  था  हर  बार  जो  कहे  इस  बार  मिला  दे  भाई  अगली  बार  मैं  तेरा  भी  पैसा  दे  दूंगा  और  एक  वो  जो  एक  के  लिए  तो  पैसे  जोड़ता  था  पर  चढ़ने  के  बाद  अकेले  ही  सबके  पैसे  दिया  करता  था। 
वो  बातो  ही  बातो  में  बहुत  दूर  निकल  जाना  अपने  साथ  रहने  की  कसमो  को  निगल  जाना।
                  वो  बैठकर  रात  भर  किसी  एक  कि  लव  स्टोरी  सुनना  तेरी  ही  गलती  थी  कहकर  दुबारा  बात  करने  को  बोलना।
याद  है  वो  किस्सा  जब  एक  अंडरवियर लेने  पर  भी  पार्टी  देनी  पड़ती  थी  जो  कोई  लड़की  से  बात  करता  भी  देख  ले  तो  साला  फालतू  ही  सबको  चाय  पिलानी  पड़ती  थी।
महीने  की  शुरुआत  में  आने  वाले  पैसो  पर  10  दिन  खूब  अय्याशी  उड़ती  थी,   उसके  बाद  तो  बस  रूम  पर  बनी  तहडी  ही  अच्छी  लगती  थी।
         याद  है  दोस्त  के  पीछे-पीछे  चोरी  से  उसकी  गर्लफ्रैंड  से  मिलने  भी  पहुच  जाते  थे  ये  साले  काम  न  बिगाड़  दे,  इस  टेंशन  में  दोस्त  अपनी  गर्लफ्रैंड  से  पहचान  तक  भी  नही  कराते  थे।  रेस्टुरेंट  में  पिज़्ज़ा  के  बचे  टुकड़े  के  लिए  लड़ाई  तक  कर  लेते  थे  तब  कहा  हम  अच्छे  बुरे  के  दिखावे  में  पड़ते  थे।

तब  वक़्त  और  हालात  जैसे  साथ  चलते  थे।
कुछ  थोड़ा  बहुत  बिगड़  भी  जाये  तो  सब  मिलकर  सम्भाल  लेते  थे।

याद  है  वो  बिना  बुलाई  शादियों  में  जाकर  खाना  खाना,  बिना  किसी  को  जाने  ही  बारातियो  में  घुसकर  डांस  करना।  वो  शादी  में  आयी  लड़कियों  को  देख  आपस  मे  समझौता  करना  जब  आखिर  में  किसी  के  हाथ  कुछ  ना  आये  तो  हर  जगह  ये  सब  अच्छा  नही  लगता  है  यार  बोलकर  वहां  से  निकल  लेना।

वो  साथ  बैठकर  पढ़ने  के  लिए  इकट्ठा  होना  और  वहा  पढाई  छोड़  बस  इधर  उधर  की  बाते  करना।  वो  मैग्गी  खाकर  पूरा  दिन  गुजारना,  वो  दोस्त  को  एक  मिनट  में  आया  बोलकर  घण्टो  इंतज़ार  कराना,  पिक्चर  में  लेट  आने  पर  भी  गालिया  सुनने  में  और  लेट  करना।

वो  बचपना  जो  बड़े  होते  ही  कहि  खो  सा  गया,  वो  बचकानी  हरकते  जो  हम  जानबूझ  कर  किया  करते  थे।  कभी  ऐसा  लगता  है  जैसे  उन  पलों  को  फिर  से  वापस  ला  सकता  तो  क्या  बात  होती,  कभी  ये  सोचता  हूं  कि   उन  यारो  के  साथ  थोड़ा  और  जी  सकता  तो  क्या  बात  होती।

गलती  ये  नही  की  हम  बड़े  हो  गए।
गलती  ये  है  की  हम  समझदार  हो  गए।
इस  दुनिया  की  भीड़  में  उस  मासूमियत  को  कहि  खो  दिया  है  हमने।
गलती  ये  है  कि  अब  हम  झूठी  हँसी  हसना  सिख  गए।
तभी  तो  दोस्तो  के  साथ  वाली  असल  जिंदगी  जीना  भूल  गए।

हम  सब  आज  भी  दोस्त  है,
पर  कोई  कहि  तो  कोई  कहि  और  व्यस्त  है। 
मिलते  है  अक्सर  फोन  कॉल  और  व्हाटसअप  चैट  पर,
लगता  है  जिंदगी  जिये  जैसे  बरसो  बीत  गए  है।

वक़्त  की  रफ्तार  को  कौन  रोक  पाया  है
मुझे  पता  है  वक़्त  के  साथ  कोई  नही  चल  पाया  है।
पर  एक  बात  जरूर  कहूंगा  यारो
वो  मिलते  रहने  के  वादे  निभाने  चाहिए।
जिंदगी  हसीन  है  इसे  जीने  में  तुमसब  का  भी  साथ  चाहिए।
एक  रोज़  फिर  उसी  चाय  की  तफरी  पर  मिलेंगे  ये  वादा  रहा,
बस  इस  वादे  को  पूरा  करने  का  सच्चा  इरादा  चाहिए।

फिर  मिलेंगे  उसी  बचपने  के  साथ  उन्ही,  उबड़  खाबड़  रास्तो  पर  साथ  चलने  को,  वही  पैसो  को  जोड़  जोड़  कर  फिर  पार्टी  मनाएंगे,  एक  बार  फिर  बिन  बुलाई  शादियों  में  जाकर  खाना  खाएंगे।
एक  बार  फिर  हम  कुछ  पलों  को  समेट  कर,  फिर  से  असल  जिंदगी  में  खुद  को  वापस  ले  जाएंगे।

ये  वादा  रहा  हम  अपनी  दोस्ती  में  कुछ  और  पन्ने  जोड़ने  साथ  जरूर  आएंगे,  और  इस  कहानी  को  एक  बार  फिर  दोहराएंगे।


Comments

  1. Jaane kaha gye wo din।।।।।
    BiteTu to wakt me le gya bhai ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुछ वक्त कभी गुजरे हुए नही लगते... बस हम उन्हें जीना छोड़ देते है।

      Delete
  2. I read it and enjoy it .It literally explain everything which we have gone through in Our life

    ReplyDelete
  3. 😢😢😗😗😗😗 👌👌
    What a lines touched the heart.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thnak you for your review... It will touch your heart only when you have lived it.

      Delete
  4. Commendable job sandip. Liked the way you put it down.

    ReplyDelete
  5. मेरे वो कमीने दोस्त अब तो ये आलम हैं
    की उनसे मिलना भी कहा होता हो

    ReplyDelete
    Replies

    1. मिलना तो दूर अब ज्यादा बाते भी नही होती।
      उन कमीने यारो के बिना अब खुशनुमा राते नही होती।

      Delete
  6. उपहारों का सिलसिला था सबने अपनी हैसियत से कुछ न कुछ दिया, पर साला दोस्त खाली हाथ बांधे कोने में मुस्कुरा रहा था। मैंने पूछा तू क्या लाया बोला पुरानी यादें लाया हूँ आ साथ मे जीते हैं।
    .
    .
    .
    सच मे सारे पल याद आ गए भी

    ReplyDelete
    Replies
    1. दोस्तो ने साथ बैठकर यादों का पिटारा खोला है...
      लगता है मरने से पहले ही कमीनो ने स्वर्ग का दरवाजा खोला है।

      Delete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पिता की जुबानी!

  तब सोचा था एक सुनहरा कल होगा। आज भले ही नौकर है कहि पर, पर कल अपना भी एक बड़ा घर होगा। आज लिखते हुए देखता हूं, अपने छोटे से बच्चे को तो बहुत गर्व होता है। खुद तो पढा लिखा नही हूं, पर उसका लिखा पढ़ लेता हूं। खूब मेहनत कर के उसे अच्छे स्कूल में भेजने की चाहत है। जो मैं ना पा सका वो सब उसे दिलाने की चाहत है। अब ड्यूटी डबल करने का समय आ गया है। मेरा बेटा अब स्कूल जाने के लायक हो गया है। उसकी फीस उसकी पढ़ाई में रुकावट ना बने, इसलिए थोड़ी बचत करने का समय आ गया है। मेरी बीवी की चाहते बिल्कुल खत्म सी हो गयी है। क्योंकि उसको भी बच्चे को पढाने की, फिक्र सी हो गयी है। उसे मालूम है पढ़ लिख जाएगा तो बड़ा साहब बनेगा, तब मेरी सारी इच्छाओं को वो, खुद ही पूरा करेगा। घर मे 24घण्टे रोशनी की व्यवस्था कर दी है। हम भले ही 2 रोटी कम खाये पर उसके लिए टिफ़िन की व्यवस्था कर दी है। अब तो बस फिक्र रहती है, कोई रुकावट न आये पढ़ाई में उसके। इधर उधर की आदतों को छोड़, उसके ट्यूशन की भी व्यवस्था कर दी है। छाती गर्व से फूल गयी माँ-बापू की, बेटे ने बोर्ड में टॉप किया। पर अंदर मन मे ये चिंता है, की अब बेटा स

Engineering Aur Pyaar (8) The End!

Chapter-8                  आने वाला कल( The End)      कई  बार  जब  हम  किसी  के  साथ  होते  है  या  जब  कोई  हमारा  बहुत  खास  बन  जाता  है,  तो  हमें  लगने  लगता  है  की  अब  यहां  से  हम  उसके  बिना  रह  नही  सकते  पर  जिंदगी  को  सुलझाने  में  हम  इतने  उलझ  जाते  है  कि  कुछ  तो  खुद  ही  भूल  जाते  है  हम  और  कुछ  भूल  जाने  का  नाटक  करते  है।           कॉलेज  के  फेयरवेल  के  कुछ  दिन  बाद  ही  हमारी  परीक्षाएं  शुरू  हो  गयी  थी,  क्योंकि  दोनों  की  परीक्षाएं  अलग  अलग  जगह  पर  थी  इसलिए  मुलाकात  नही  हो  पाती  थी।  सभी  को  इंतज़ार  था  कि  जैसे-तैसे  ये  सब  खत्म  हो  और  छुट्टियों  में  घर  जाया  जाए।  पर  इस  बार  मैं  नही  चाहता  था  कि  ये  परीक्षाएं  ये  दिन  खत्म  हो,  मैं  जैसे  समय  को  रोकने  की  सोच  में  था।  पर  ऐसा  मुमकिन  ना  था  और  हमारे  प्रैक्टिकल्स  वगैरह  सब  खत्म  हो  गए  और  2 महीने  की  छुट्टियां  हो  गयी  सब  अपने  अपने  घरों  को  चल  दिये  पर  मैं  बहाने  सोचने  में  था  लेकिन  उस  साल  हमारी  ट्रेनिंग  होनी  थी  तो  मुझे  मजबूरी  में  जाना  ही

Jindgi Aur Sapne (part-3)

# मंज़िल ~~~ कई  बार  हमें  अपनी  मंज़िल  पता  नही  होती  है,  पर  फिर  भी  हम  चलते  रहते  है  लेकिन  कहि  न  कही  रास्ते  के  किसी  मोड़  पर  जब  हम  कुछ  पल  के  लिए  रुकते  है,  तब  ख्याल  आता  है  कि  लोगो  को  देखकर  ये  जो  रास्ता  चुना  है  मैंने  क्या  इन  रास्तों  पर  चलते  हुए  कोई  मुझे  मुझ  जैसे  मिलेगा  या  फिर  शायद  एक  रोज़  इन  बेमन  के  रास्तों  पर  चलते-चलते  मैं  खुद  का  वजूद  कहि  खो  दूंगा  और  एक  दिन  शायद  किसी  मंज़िल  तक  मैं  पहुच  भी  जाऊं  लेकिन  अगले  ही  पल  मुझे  खुद  को  ढूंढना  होगा। मंज़िल  से  भटके  हुए  इंसान  पर  आधारित  एक  कविता  कृपया  इसे  पूरा  अवश्य  पढ़ें! धन्यवाद🙏 ~~~ मैं  तलाश  में  हू   खुद  के  ढूंढता  हू दर-ब-दर  अपने  ही  निशान! कभी  ख्यालो  के  पीछे  ढूंढता  हू   खुद  को, कभी  दरवाज़े  के  पीछे  तलाशता  हू ! किसी  आवाज़  का  पीछा  कर  लेता  हूं  यूही  कभी, कभी  लाख  चिल्लाने  पर  भी  सन्नाटा  पसरा  रहता  है! ना  जाने  कहा  खो  दिया  मैंने  खुद  को! कभी  परछाइयों  के  पीछे  भागता  हू , कभी  आईने  में  तलाशता  हू   खुद  को! कभी