Skip to main content

रफ़_कॉपी

             

               यू  तो  जिंदगी  कई  पन्नो,  कई  किस्सों  और  कितने  ही  उतार - चढाव  से  भरी  है  और  इस  जिंदगी  में  हर  किसी  का  अपना  अपना  अनुभव  और  संघर्ष  होता  है।  पर  कुछ  किस्सों  के  पहलू  सभी  की  जिंदगी  में  एक  जैसे  होते  है... कुछ  अनुभव,  कुछ  लगाव,  कुछ  किस्से  सभी  की  जिंदगी  में  एक  से  होते  है...  उनमे  से  एक  है  हमारी  रफ़ कॉपी!

          ये  किस्सा  उसी  रफ़ कॉपी  का  है...



             वही  रफ़ कॉपी  जिसके  पन्ने  तो  खुरदुरे  होते  थे,
            पर  लिखावट  उसी  पर  ज्यादा  अच्छी  होती  थी।


वही  रफ़ कॉपी  जिसके  पन्नो  का  कलर  तो  बहुत  बासी  होता  था,
पर  पूरे  बस्ते  में  वही  सबसे  अव्वल  होती  थी।

वही  रफ़ कॉपी  जिसके  पहले  पन्ने  पर  सिर्फ  हमारा  नाम  होता  था,
और  आखिरी  पन्नो  पर  कुछ  अजीब  सी  चित्रकारी,  कुछ  खेलो  का  जोड़-घटाना  और  थोड़ा  बहुत  सवालों  का  हिसाब-किताब  होता  था।


वो  रफ़ कॉपी  जिसके  पहले  पन्ने  को  तो  ऐसे  सजाते  थे,  जैसे  इसी  में  सारी  विद्या  छिपी  होती  थी
और  वही  उसके  आखिरी  पन्ने  पर  ना  जाने  कितनी  ही  गलतियां  और  कितने  ही  खेलो  की  होड़  मची  रहती  थी।।


वही  रफ़ कॉपी  जिसपर  कभी  और  कॉपीज  की  तरह  कवर  तो  नही  चढ़ाते  थे
पर  सबसे  जरूरी  और  अपने  सारे  सीक्रेट्स  उसी  कॉपी  में  छिपाते  थे।


वो  रफ़ कॉपी  जो  हमारी  कितनी  ही  गलतियों  को  खुद  में  समेटे  रखता  था।
वो  रफ़ कॉपी  जिसका  वजन  भी  सारी  कॉपीओ  से  कम  ही  होता  था।।


          वही  रफ़ कॉपी  जिसमे  थोड़ा  बड़े  होने  के  बाद  दिल  का  हाल  भी  लिखा  जाता  था।  प्यार,  गुस्सा  और  भी  ना  जाने  क्या-क्या  लिखा  होता  था।  कोई  पढ़  ना  पाए  इसलिए  सब  कोड  भाषा  में  लिखते  थे
कई  बार  लिखकर  बहुत  कुछ  हम  काट  दिया  करते  थे,
ज्यादा  गुस्सा  आने  पर  गोच-गोच  के  पन्ने  को  फाड़  ही  दिया  करते  थे।


हा  वही  रफ़ कॉपी  जिसमे  कितने  ही  किस्सों  को  लिखकर  अमर  कर  दिया  था  हमने
वो  राजा,  मंत्री,  चोर,  सिपाही  का  हिसाब  तक  कर  के  रखा  था  हमने।।


बचपन  के  पहले  अक्षर  से  शुरु  हुई  रफ़ कॉपी  की  कहानी  ना  जाने  कितने  चाहे  अनचाहे  किस्सों,  कितने  ही  ना  पूरे  होने  वाले  सपनो  और  कितनी  ही  मोहब्बक्त,  दुख  और  गुस्से  हो  खुद  में  समेट  कर  रखती  थी...  क्योंकि  तब  हमारे  हर  भाव  के  लिए  वो  रफ़ कॉपी  ही  थी  जो  राज़  को  राज़  रखने  में  हमारा  साथ  देती  थी


            पर  अब  वो  रफ़ कॉपी  जैसे  कही  खो  सी  गयी  है
वो  रफ़ कॉपी  हमारे  जीवन  से  बहुत  दूर  चली  गयी...
वो  रफ़ कॉपी  अब  मिलती  ही  नही...  पर  सोचता  हूं  उसे  ढूंढकर  खरीद  लू  क्योंकि  बहुत  समय  से  हिसाब  नही  हुआ  प्यार  का,  गुस्से  का,  उन  किस्से  कहानियों  का  जिन्हें  लिखकर  और  फिर  मिटाकर  हम  संतुष्ट  हो  लिया  करते  थे।  उन  सारे  खेलो  को  खेलेंगे  जिन्हें  खेलकर  हम  बड़े  हुए.. तो  चलो  फिर  एक  बार  वो  रफ़ कॉपी  लेते  है  और  अपनी  सारी  टेंशन  अपनी  सारी  परेशानियो  को  लिखकर  उस  पन्ने  को  गोचा-गोचा  के फाड़  देते  है  और  उ फ़टे  हुए  पन्ने  को  मुँह  में  दबाकर  सबकुछ  भूल  जाते  है।  चलो  एक  बार  फिर  वो  रफ़ कॉपी  वाली  जिंदगी  जीते  है...


तो  ये  है  मेरी  रफ़ कॉपी  का  किस्सा...

अगर  आपके  किस्सों  में  कोई  इससे  अलग  बात  हो  तो  comment  में  लिखे।🙏

Comments

  1. वाह भाई! बचपन की याद ताजा कर दिया। अद्भुत लेखनी है शुरू से अंत तक उस रफ़ कॉपी का सजीव चित्र शब्दों के माध्यम से जहन में बनता रहा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी बाते मेरी लेखनी के लिए बहुत आवश्यक है। आपकी बाते मुझे बताती है कि मेरी लिखने की कोशिशे सफल हो रही है।

      Delete
  2. Extraordinary....
    that's good....

    ReplyDelete
  3. Good thought... Real life experience for all...

    ReplyDelete
  4. Bhut khoobsurat likha hai aapne... Pure rough copy k sfr ko jaise mn me jeevit kr diya...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Engineering aur pyaar (3)

                            मुलाकात... यू  तो  हर  कोई  हर  किसी  के  लिए  अलग  ही  होता  है  पर  कोई  किसी  का  खास  तब  ही  बनता  है  जब  वो  खास  बनना  चाहता  है । ~~~          अब  सारी  मस्तियों  के  बीच  सर्दियों  ने  दस्तक  दे  दी  थी  और  साथ  ही  सेमेस्टर  भी  हमारे  करीब  आ  गया  था,  और  तैयारी  के  नाम  पर  मैंने  सिर्फ  प्यार  की  कविताएं  ही  लिखी  थी।  अब  जब  भी  पढ़ने  बैठता  तो  दिमाग  के  साथ  कि  गयी  थोड़ी  जोर-जबरजस्ती  काम  आ  जाती  जिससे  कुछ  देर  तो  मैं  पढ़  लेता  पर  थोड़ी  ही  देर  बाद  उसका  चेहरा ,   उसकी  आंखें ,   उसकी  हंसी  सब  जैसे  मेरी  किताबो  में  छप  गया  हो।  अब  ये  समझ  आने  लगा  था  कि  क्यों  हमे  प्यार-मोहब्बक्त  से  दूर  रहने  को  कहा  जाता  है।  कॉपी  पर  सवाल  लगाते  लगाते  कब  पेन  को  उस  कॉपी  पर  घुमाने  लग  जाता  था  कुछ  पता  ही  नही  होता  था।                 तो  अब  मैंने  तय  किया  था  कि  ये  सब  से  ध्यान  हटाना  है ।   वैसे  तो  मुझे  अकेले  पढ़ने  की  आदत  थी ,   पर  अब  मैंने  दोस्तो  के  साथ  पढ़ना  शुरू  कर  दिया।  जैसे-तै

मेरी अनकही कहानी(4)

       वो  आखिरी  पल chapter(4)                       Last chapter               कई  बार  मोहब्बक्त  में  गलतफहमियां  हो  जाती  है,  और  उस  एक  गलतफहमी  का  मुआवजा  हम  पूरी  जिंदगी  भरते  है।...  अक्सर  सफर  और  मंज़िल के  बीच  मे  ही  प्यार  दम  तोड़  देता  है  और  यही  अधूरी  कहानियां  ही  हमारे  सफर  को  खूबसूरत  बनाती  है...  कुछ  ऐसी  ही  अधूरी  कहानी  है  मेरी  जिसे  एक  हसीन  मुकाम  देकर  छोड़  दिया  मैंने  और  आजतक  उस  मोहब्बक्त  को  ना  सही  पर  उस  एक  पल  को  यादकर  जरूर  मुस्कुराता  हूं,  जब  सच  मे  मुझे  एहसास  हुआ  कि  शायद  यही  प्यार  है। प्यार  ढूंढने  में  उतना  वक़्त  नही  लगता  जनाब!  जितना  उसे  समझने  और  समझाने  में  लगता  है।। मैं  बता  रहा  था  कि  अब  हमारी  मुलाकाते  बढ़ने  लगी  थी,  अब  अक्सर  कहू  तो  हम  हर  दूसरे  दिन  मिलते  थे।  खूब  सारी  बाते  होती  थी,  वो  मुझे  अपने  बारे  में  बताती  और  मैं  उसे  उसके  ही  बारे  में  बताता।...                         वो  कहती  कि  बहुत  बोलती  हु  ना  मैं!  मैं  कहता  तुम्हारा  खामोश  रहना  च

Engineering Aur Pyaar (1)

        कॉलेज  का  पहला  दिन... (Chapter-1)                        आज  मेरा  कॉलेज  का  पहला  दिन  था...  हर  कोई  जब  पहले  दिन  कॉलेज  जाता  है  तो  ना  जाने  कितना  उत्साह  अंदर  उमड़ता  रहता  है।  सबकुछ  पाने  की  सबकुछ  देखने  की  और  बहुत  कुछ  करने  की  इच्छाएं  मन  मे  जगह  बनाती  है  और  हम  थोड़ा  डरते  भी  है... और  साथ  ही  ऐसा  लगता  है  जैसे  आसमान  में  हो  क्योंकि  अब  जाकर  पहली  बार  हम  अपने  घर  से  कही  दूर  आये  होते  है...         ऐसा  ही  कुछ  हाल  था  मेरा  आज  वो  पहला  दिन  है  जब  मैं  सच  मे  कुछ  बनने  का  सोचने  की  जगह  कुछ  बनने  की  कोशिश  करने  जा  रहा  था...   और  शायद  ये  मेरी  जिंदगी  का  पहला  ऐसा  कदम  था,  जहाँ  से  अब  सारे  रास्ते  मुझे  खुद  ही  तय  करने  थे। कॉलेज  शुरू  होने  के  2दिन  पहले  ही  मैंने  कमरा  ले  लिया  था,  हम  दो  दोस्त  साथ  ही  आये  थे  लेकिन  उसने  c.s  चुना  और  मैंने  मैकेनिकल ....  वैसे  तो  कॉलेज  में  दाखिले  के  लिए  2...3  बार  आ  चुके  थे।                      लेकिन  वो  पहला  दिन,  जब  कंधे  पर  एक  बैग