Skip to main content

रफ़_कॉपी

             

               यू  तो  जिंदगी  कई  पन्नो,  कई  किस्सों  और  कितने  ही  उतार - चढाव  से  भरी  है  और  इस  जिंदगी  में  हर  किसी  का  अपना  अपना  अनुभव  और  संघर्ष  होता  है।  पर  कुछ  किस्सों  के  पहलू  सभी  की  जिंदगी  में  एक  जैसे  होते  है... कुछ  अनुभव,  कुछ  लगाव,  कुछ  किस्से  सभी  की  जिंदगी  में  एक  से  होते  है...  उनमे  से  एक  है  हमारी  रफ़ कॉपी!

          ये  किस्सा  उसी  रफ़ कॉपी  का  है...



             वही  रफ़ कॉपी  जिसके  पन्ने  तो  खुरदुरे  होते  थे,
            पर  लिखावट  उसी  पर  ज्यादा  अच्छी  होती  थी।


वही  रफ़ कॉपी  जिसके  पन्नो  का  कलर  तो  बहुत  बासी  होता  था,
पर  पूरे  बस्ते  में  वही  सबसे  अव्वल  होती  थी।

वही  रफ़ कॉपी  जिसके  पहले  पन्ने  पर  सिर्फ  हमारा  नाम  होता  था,
और  आखिरी  पन्नो  पर  कुछ  अजीब  सी  चित्रकारी,  कुछ  खेलो  का  जोड़-घटाना  और  थोड़ा  बहुत  सवालों  का  हिसाब-किताब  होता  था।


वो  रफ़ कॉपी  जिसके  पहले  पन्ने  को  तो  ऐसे  सजाते  थे,  जैसे  इसी  में  सारी  विद्या  छिपी  होती  थी
और  वही  उसके  आखिरी  पन्ने  पर  ना  जाने  कितनी  ही  गलतियां  और  कितने  ही  खेलो  की  होड़  मची  रहती  थी।।


वही  रफ़ कॉपी  जिसपर  कभी  और  कॉपीज  की  तरह  कवर  तो  नही  चढ़ाते  थे
पर  सबसे  जरूरी  और  अपने  सारे  सीक्रेट्स  उसी  कॉपी  में  छिपाते  थे।


वो  रफ़ कॉपी  जो  हमारी  कितनी  ही  गलतियों  को  खुद  में  समेटे  रखता  था।
वो  रफ़ कॉपी  जिसका  वजन  भी  सारी  कॉपीओ  से  कम  ही  होता  था।।


          वही  रफ़ कॉपी  जिसमे  थोड़ा  बड़े  होने  के  बाद  दिल  का  हाल  भी  लिखा  जाता  था।  प्यार,  गुस्सा  और  भी  ना  जाने  क्या-क्या  लिखा  होता  था।  कोई  पढ़  ना  पाए  इसलिए  सब  कोड  भाषा  में  लिखते  थे
कई  बार  लिखकर  बहुत  कुछ  हम  काट  दिया  करते  थे,
ज्यादा  गुस्सा  आने  पर  गोच-गोच  के  पन्ने  को  फाड़  ही  दिया  करते  थे।


हा  वही  रफ़ कॉपी  जिसमे  कितने  ही  किस्सों  को  लिखकर  अमर  कर  दिया  था  हमने
वो  राजा,  मंत्री,  चोर,  सिपाही  का  हिसाब  तक  कर  के  रखा  था  हमने।।


बचपन  के  पहले  अक्षर  से  शुरु  हुई  रफ़ कॉपी  की  कहानी  ना  जाने  कितने  चाहे  अनचाहे  किस्सों,  कितने  ही  ना  पूरे  होने  वाले  सपनो  और  कितनी  ही  मोहब्बक्त,  दुख  और  गुस्से  हो  खुद  में  समेट  कर  रखती  थी...  क्योंकि  तब  हमारे  हर  भाव  के  लिए  वो  रफ़ कॉपी  ही  थी  जो  राज़  को  राज़  रखने  में  हमारा  साथ  देती  थी


            पर  अब  वो  रफ़ कॉपी  जैसे  कही  खो  सी  गयी  है
वो  रफ़ कॉपी  हमारे  जीवन  से  बहुत  दूर  चली  गयी...
वो  रफ़ कॉपी  अब  मिलती  ही  नही...  पर  सोचता  हूं  उसे  ढूंढकर  खरीद  लू  क्योंकि  बहुत  समय  से  हिसाब  नही  हुआ  प्यार  का,  गुस्से  का,  उन  किस्से  कहानियों  का  जिन्हें  लिखकर  और  फिर  मिटाकर  हम  संतुष्ट  हो  लिया  करते  थे।  उन  सारे  खेलो  को  खेलेंगे  जिन्हें  खेलकर  हम  बड़े  हुए.. तो  चलो  फिर  एक  बार  वो  रफ़ कॉपी  लेते  है  और  अपनी  सारी  टेंशन  अपनी  सारी  परेशानियो  को  लिखकर  उस  पन्ने  को  गोचा-गोचा  के फाड़  देते  है  और  उ फ़टे  हुए  पन्ने  को  मुँह  में  दबाकर  सबकुछ  भूल  जाते  है।  चलो  एक  बार  फिर  वो  रफ़ कॉपी  वाली  जिंदगी  जीते  है...


तो  ये  है  मेरी  रफ़ कॉपी  का  किस्सा...

अगर  आपके  किस्सों  में  कोई  इससे  अलग  बात  हो  तो  comment  में  लिखे।🙏

Comments

  1. वाह भाई! बचपन की याद ताजा कर दिया। अद्भुत लेखनी है शुरू से अंत तक उस रफ़ कॉपी का सजीव चित्र शब्दों के माध्यम से जहन में बनता रहा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी बाते मेरी लेखनी के लिए बहुत आवश्यक है। आपकी बाते मुझे बताती है कि मेरी लिखने की कोशिशे सफल हो रही है।

      Delete
  2. Extraordinary....
    that's good....

    ReplyDelete
  3. Good thought... Real life experience for all...

    ReplyDelete
  4. Bhut khoobsurat likha hai aapne... Pure rough copy k sfr ko jaise mn me jeevit kr diya...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पिता की जुबानी!

  तब सोचा था एक सुनहरा कल होगा। आज भले ही नौकर है कहि पर, पर कल अपना भी एक बड़ा घर होगा। आज लिखते हुए देखता हूं, अपने छोटे से बच्चे को तो बहुत गर्व होता है। खुद तो पढा लिखा नही हूं, पर उसका लिखा पढ़ लेता हूं। खूब मेहनत कर के उसे अच्छे स्कूल में भेजने की चाहत है। जो मैं ना पा सका वो सब उसे दिलाने की चाहत है। अब ड्यूटी डबल करने का समय आ गया है। मेरा बेटा अब स्कूल जाने के लायक हो गया है। उसकी फीस उसकी पढ़ाई में रुकावट ना बने, इसलिए थोड़ी बचत करने का समय आ गया है। मेरी बीवी की चाहते बिल्कुल खत्म सी हो गयी है। क्योंकि उसको भी बच्चे को पढाने की, फिक्र सी हो गयी है। उसे मालूम है पढ़ लिख जाएगा तो बड़ा साहब बनेगा, तब मेरी सारी इच्छाओं को वो, खुद ही पूरा करेगा। घर मे 24घण्टे रोशनी की व्यवस्था कर दी है। हम भले ही 2 रोटी कम खाये पर उसके लिए टिफ़िन की व्यवस्था कर दी है। अब तो बस फिक्र रहती है, कोई रुकावट न आये पढ़ाई में उसके। इधर उधर की आदतों को छोड़, उसके ट्यूशन की भी व्यवस्था कर दी है। छाती गर्व से फूल गयी माँ-बापू की, बेटे ने बोर्ड में टॉप किया। पर अंदर मन मे ये चिंता है, की अब बेटा स

Engineering Aur Pyaar (8) The End!

Chapter-8                  आने वाला कल( The End)      कई  बार  जब  हम  किसी  के  साथ  होते  है  या  जब  कोई  हमारा  बहुत  खास  बन  जाता  है,  तो  हमें  लगने  लगता  है  की  अब  यहां  से  हम  उसके  बिना  रह  नही  सकते  पर  जिंदगी  को  सुलझाने  में  हम  इतने  उलझ  जाते  है  कि  कुछ  तो  खुद  ही  भूल  जाते  है  हम  और  कुछ  भूल  जाने  का  नाटक  करते  है।           कॉलेज  के  फेयरवेल  के  कुछ  दिन  बाद  ही  हमारी  परीक्षाएं  शुरू  हो  गयी  थी,  क्योंकि  दोनों  की  परीक्षाएं  अलग  अलग  जगह  पर  थी  इसलिए  मुलाकात  नही  हो  पाती  थी।  सभी  को  इंतज़ार  था  कि  जैसे-तैसे  ये  सब  खत्म  हो  और  छुट्टियों  में  घर  जाया  जाए।  पर  इस  बार  मैं  नही  चाहता  था  कि  ये  परीक्षाएं  ये  दिन  खत्म  हो,  मैं  जैसे  समय  को  रोकने  की  सोच  में  था।  पर  ऐसा  मुमकिन  ना  था  और  हमारे  प्रैक्टिकल्स  वगैरह  सब  खत्म  हो  गए  और  2 महीने  की  छुट्टियां  हो  गयी  सब  अपने  अपने  घरों  को  चल  दिये  पर  मैं  बहाने  सोचने  में  था  लेकिन  उस  साल  हमारी  ट्रेनिंग  होनी  थी  तो  मुझे  मजबूरी  में  जाना  ही

Jindgi Aur Sapne (part-3)

# मंज़िल ~~~ कई  बार  हमें  अपनी  मंज़िल  पता  नही  होती  है,  पर  फिर  भी  हम  चलते  रहते  है  लेकिन  कहि  न  कही  रास्ते  के  किसी  मोड़  पर  जब  हम  कुछ  पल  के  लिए  रुकते  है,  तब  ख्याल  आता  है  कि  लोगो  को  देखकर  ये  जो  रास्ता  चुना  है  मैंने  क्या  इन  रास्तों  पर  चलते  हुए  कोई  मुझे  मुझ  जैसे  मिलेगा  या  फिर  शायद  एक  रोज़  इन  बेमन  के  रास्तों  पर  चलते-चलते  मैं  खुद  का  वजूद  कहि  खो  दूंगा  और  एक  दिन  शायद  किसी  मंज़िल  तक  मैं  पहुच  भी  जाऊं  लेकिन  अगले  ही  पल  मुझे  खुद  को  ढूंढना  होगा। मंज़िल  से  भटके  हुए  इंसान  पर  आधारित  एक  कविता  कृपया  इसे  पूरा  अवश्य  पढ़ें! धन्यवाद🙏 ~~~ मैं  तलाश  में  हू   खुद  के  ढूंढता  हू दर-ब-दर  अपने  ही  निशान! कभी  ख्यालो  के  पीछे  ढूंढता  हू   खुद  को, कभी  दरवाज़े  के  पीछे  तलाशता  हू ! किसी  आवाज़  का  पीछा  कर  लेता  हूं  यूही  कभी, कभी  लाख  चिल्लाने  पर  भी  सन्नाटा  पसरा  रहता  है! ना  जाने  कहा  खो  दिया  मैंने  खुद  को! कभी  परछाइयों  के  पीछे  भागता  हू , कभी  आईने  में  तलाशता  हू   खुद  को! कभी