Skip to main content

वर्ष 2020


      इस  साल  का  ये  मेरा  पहला  ब्लॉग  है,  हालांकि  नया  साल  शुरू  हुए  10  दिन  बीत  चुके  है... पर  ब्लॉगिंग  साइट  में  थोड़ी  दिक्कत  की  वजह  से  मैं  असमर्थ  था।  नए  साल  में  बीते  साल  की  कुछ  बाते  लिख  रहा  हू,  उम्मीद  करता  हू  आपको  पसंद  आएगा


~~~

2020  ने  हमे  कितना  कुछ  है  सिखाया।
Work  From  home  और  lockdown  से  लेकर  "रामायण" तक  ट्रेंड  में  है  आया।
घर  पर  रहने  की  मजबूरी  कहो  या  माँ  के  हाथ  के  खाने  की  खुशी,
ये  पूरा  साल  कई  उतार  चढ़ाव  लेकर  था  आया।

इस  पूरे  साल  हम  एक  अलग  ही  दुनिया  मे  जैसे  जी  रहे  हो,  जैसे  बचपन  मे  हमे  घरों  में  बंद  कर  दिया  जाता  था  और  हम  चिल्ला  चिल्लाकर  पूरी  कॉलोनी  को  हिला  देते  थे,  कुछ  वही  हाल  था  हमारा।  पर  अब  वो  चिल्लाना  नही  था  बस  थी  तो  खामोशी,  बेचैनी  और  चैन  से  सांस  ना  ले  पाने  की  फिक्र...


थाली  पीटने  से  लेकर  मोमबत्ती  जलाना  भी  देखा  है।
चाइना  को  हमने  बॉर्डर  से  पीछे  हटाते  भी  देखा  है।

राम  मंदिर  की  नींव  रख  दीवाली  बिन  दिया  जलाया  है  हमने...
घर  पर  रहकर  पुराने  खेलो  को  भी  खेला  है  हमने...
ना  चाहते  हुए  भी  कितना  ही  कड़वा  काढ़ा  पिया  है  हमने!!

बहुत  सारी  फिक्र  के  बीच  एक  खुशी  ये  थी  कि,  ऐसी  किसी  विपदा  के  समय  हम  सबने  साथ  रहने  और  साथ  लड़ने  की  झांकी  भी  पेश  की  और  साथ  ही  हमारे  सैनिकों  ने  हमेशा  की  तरह  हमारे  झंडे  को  ऊपर  उठाएं  रक्खा।  हमने  पूरे  विश्व  को  एक  बार  फिर  अपनी  एकजुटता  का  लोहा  मनवा  दिया,  क्योंकि  थालियों  की  गूंज  और  उस  मोमबत्ती  की  रौशनी  को  हमने  पूरे  विश्व  मे  फैला  दिया।


इस  कोरोना  ने  काफी  सबक  भी  है  सिखाया।
जिंदगी  हो  या  पैसा  किसी  के  पास  नही  है  टिक  पाया।
जिंदगी  की  भागती  रफ्तार  को  भी  इसने  ब्रेक  है  लगाया।
अब  क्या  कहे  कि  कोरोना  ने  पूरे  साल  कितनो  को  है  रुलाया।

हम  सारी  जिंदगी  भागते  रहते  है,  कोई  मर्ज़ी  से  चलता  है  तो  कोई  मजबूरी  से  चलता  है...  पर  इस  साल  मर्ज़ी  और  मजबूरी  दोनों  एक  ही  पलड़े  में  आ  गिरे।बस  फर्क  इतना  था  कि  किसी  ने  अपनी  बचत  से  आराम  से  साल  काट  लिया,  तो  किसी  ने  सरकार  से  मिल  रही  सेवाओ  से  अपना  जीवन  बचा  लिया,  पर  आंसू  तो  बहे  वो  भी  हर  साल  से  ज्यादा  वो  भी  हर  किसी  की  आंखों  से।


इस  साल  कितनो  ने  ही  अपनी  नौकरी  है  गवाई,
बेरोजगारी  पहले  से  ही  ज्यादा  थी  इस  कोरोना  ने  और  आफत  बढ़ाई।
कितने  मजदूर  भाई  पलायन  को  हो  गए  मजबूर,
पैदल  ही  चल  दिये  शहर  छोड़  अपने  घरों  को  जो  थे  कोषों  दूर।
कोई  बच्चे  को  कंधे  पर  उठाए  चल  रहा  था,  तो  कोई  साईकल  पर  पिता  को  बिठाए  चल  रहा  था।
हर  कोई  हर  तरह  से  एकदूसरे  की  मदद  ही  कर  रहा  था।
बस  ये  था  कि  हर  कोई  अपने  हिस्से  की  मेहनत  कर  रहा  था।


इस  साल  में  कितने  आश्चर्यजनक  काम  हुए,
कही  फ्री  में  राशन  बटा  तो  कही  पब-जी  वाले  बर्बाद  हुए।
टिकटॉक  और  सारे  चाइनीज  एप्प्स  को  हमने  जमीन  पर  है  ला  पटका,
राजनीति  करने  वाले  भी  सबके  बीच  शर्मसार  हुए।

ना  कोई  त्योहार  मनाया  ना  कहि  घूमने  को  मिल  पाया।
इस  साल  कुछ  लोगो  ने  अपने  अच्छे  कामो  से  है  नाम  भी  कमाया।
"सोनू  सूद"  और  "टाटा"  जैसो  ने  अपना  हाथ  बढ़ाया!
इंसानियत  ही  सबसे  बड़ा  कर्म  है  हमे  इसका  पाठ  है  सिखाया।


इस  साल  कई  चहिते  अदाकारो  की  मौत  से  माहौल  खूब  गरमाया।
जिसमे  सबको  चौकाने  वाले  सुशांत  की  मौत  से  चारो  ओर  था  सन्नाटा  छाया।


हो  सकता  है  भूल  जाये  कुर्बानिया  हम  पुलिस  और  डॉक्टरों  की,  पर  इस  साल  इन्होंने  अपनी  जिंदगी  दांव  पर  लगाई  ताकि  हमसब  जीए!  कितने  दिनों  तक  घर  नही  गए  ताकि  हम  अपने  घरों  में  सुरक्षित  रह  सके...  और  कितनो  ने  तो  हमारे  जैसो  को  बचाने  में  अपनी  जान  तक  गवा  दी। 



        भले  ही  बहुत  खराब  दौर  देखा  है  हमने  इस  बार  पर  कितनो  का  भला  भी  हुआ  इस  साल,  राम  मंदिर  की  नींव  रख  सब  मंदिर  बनाने  में  लग  गए, पढ़ने  वाले  बिना  परीक्षा  के  ही  पास  हो  गए  और  कितने  ही  नौकरी  वाले  घर  से  काम  करके  खुशी  से  लाल  हो  गए... कई  माँ-बाप  बच्चो  को  लंबे  समय  तक  पास  देखकर  फिर  से  जवान  हो  गए। भागती  जिंदगी  में  कुछ  पल  आराम  के  भी  मिले। कितने  समय  के  बाद  काफी  दिन  माँ-बाप  के  साथ  गुजरे।


                     बस  शुक्र  इस  बात  का  मनाइए  की  हम  ये  साल  कैसे  भी  करके  पार  कर  गए। और  मेरी  यही  प्रार्थना  रहेगी  कि  सब  सुरक्षित  रहे  और  खुश  रहे...  ये  साल  सभी  को  दोगुनी  उचाइयां  प्रदान  करे।


Comments

  1. Bahut khub bhai pura lock down yad dila diya

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bss bhai likhne ka maqsad yhi tha... Ar agr sch me aisa hi hua to mera mqsad pura ho gya

      Delete
  2. Bahut sandar , Sandeep bhaie.
    You are great.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पिता की जुबानी!

  तब सोचा था एक सुनहरा कल होगा। आज भले ही नौकर है कहि पर, पर कल अपना भी एक बड़ा घर होगा। आज लिखते हुए देखता हूं, अपने छोटे से बच्चे को तो बहुत गर्व होता है। खुद तो पढा लिखा नही हूं, पर उसका लिखा पढ़ लेता हूं। खूब मेहनत कर के उसे अच्छे स्कूल में भेजने की चाहत है। जो मैं ना पा सका वो सब उसे दिलाने की चाहत है। अब ड्यूटी डबल करने का समय आ गया है। मेरा बेटा अब स्कूल जाने के लायक हो गया है। उसकी फीस उसकी पढ़ाई में रुकावट ना बने, इसलिए थोड़ी बचत करने का समय आ गया है। मेरी बीवी की चाहते बिल्कुल खत्म सी हो गयी है। क्योंकि उसको भी बच्चे को पढाने की, फिक्र सी हो गयी है। उसे मालूम है पढ़ लिख जाएगा तो बड़ा साहब बनेगा, तब मेरी सारी इच्छाओं को वो, खुद ही पूरा करेगा। घर मे 24घण्टे रोशनी की व्यवस्था कर दी है। हम भले ही 2 रोटी कम खाये पर उसके लिए टिफ़िन की व्यवस्था कर दी है। अब तो बस फिक्र रहती है, कोई रुकावट न आये पढ़ाई में उसके। इधर उधर की आदतों को छोड़, उसके ट्यूशन की भी व्यवस्था कर दी है। छाती गर्व से फूल गयी माँ-बापू की, बेटे ने बोर्ड में टॉप किया। पर अंदर मन मे ये चिंता है, की अब बेटा स

Engineering Aur Pyaar (8) The End!

Chapter-8                  आने वाला कल( The End)      कई  बार  जब  हम  किसी  के  साथ  होते  है  या  जब  कोई  हमारा  बहुत  खास  बन  जाता  है,  तो  हमें  लगने  लगता  है  की  अब  यहां  से  हम  उसके  बिना  रह  नही  सकते  पर  जिंदगी  को  सुलझाने  में  हम  इतने  उलझ  जाते  है  कि  कुछ  तो  खुद  ही  भूल  जाते  है  हम  और  कुछ  भूल  जाने  का  नाटक  करते  है।           कॉलेज  के  फेयरवेल  के  कुछ  दिन  बाद  ही  हमारी  परीक्षाएं  शुरू  हो  गयी  थी,  क्योंकि  दोनों  की  परीक्षाएं  अलग  अलग  जगह  पर  थी  इसलिए  मुलाकात  नही  हो  पाती  थी।  सभी  को  इंतज़ार  था  कि  जैसे-तैसे  ये  सब  खत्म  हो  और  छुट्टियों  में  घर  जाया  जाए।  पर  इस  बार  मैं  नही  चाहता  था  कि  ये  परीक्षाएं  ये  दिन  खत्म  हो,  मैं  जैसे  समय  को  रोकने  की  सोच  में  था।  पर  ऐसा  मुमकिन  ना  था  और  हमारे  प्रैक्टिकल्स  वगैरह  सब  खत्म  हो  गए  और  2 महीने  की  छुट्टियां  हो  गयी  सब  अपने  अपने  घरों  को  चल  दिये  पर  मैं  बहाने  सोचने  में  था  लेकिन  उस  साल  हमारी  ट्रेनिंग  होनी  थी  तो  मुझे  मजबूरी  में  जाना  ही

Jindgi Aur Sapne (part-3)

# मंज़िल ~~~ कई  बार  हमें  अपनी  मंज़िल  पता  नही  होती  है,  पर  फिर  भी  हम  चलते  रहते  है  लेकिन  कहि  न  कही  रास्ते  के  किसी  मोड़  पर  जब  हम  कुछ  पल  के  लिए  रुकते  है,  तब  ख्याल  आता  है  कि  लोगो  को  देखकर  ये  जो  रास्ता  चुना  है  मैंने  क्या  इन  रास्तों  पर  चलते  हुए  कोई  मुझे  मुझ  जैसे  मिलेगा  या  फिर  शायद  एक  रोज़  इन  बेमन  के  रास्तों  पर  चलते-चलते  मैं  खुद  का  वजूद  कहि  खो  दूंगा  और  एक  दिन  शायद  किसी  मंज़िल  तक  मैं  पहुच  भी  जाऊं  लेकिन  अगले  ही  पल  मुझे  खुद  को  ढूंढना  होगा। मंज़िल  से  भटके  हुए  इंसान  पर  आधारित  एक  कविता  कृपया  इसे  पूरा  अवश्य  पढ़ें! धन्यवाद🙏 ~~~ मैं  तलाश  में  हू   खुद  के  ढूंढता  हू दर-ब-दर  अपने  ही  निशान! कभी  ख्यालो  के  पीछे  ढूंढता  हू   खुद  को, कभी  दरवाज़े  के  पीछे  तलाशता  हू ! किसी  आवाज़  का  पीछा  कर  लेता  हूं  यूही  कभी, कभी  लाख  चिल्लाने  पर  भी  सन्नाटा  पसरा  रहता  है! ना  जाने  कहा  खो  दिया  मैंने  खुद  को! कभी  परछाइयों  के  पीछे  भागता  हू , कभी  आईने  में  तलाशता  हू   खुद  को! कभी