Skip to main content

मधुशाला - भाग (क)


         
आज  मैं  आपको  एक  ऐसी  कविता  पढ़ाने  जा  रहा  हु  जो  यू  तो  एक  शब्द  पर  लिखी  गयी  है  लेकिन  हर  बार  आने  वाले  इस  शब्द  का  भाव  हर  बार  अलग  है । ये  कुछ  पंक्तिया  है  "श्री  हरिवंशराय  बच्चन जी"  के  द्वारा  हिंदी  अनुवाद  की  हुई  "मधुशाला"  की -

                  1
  मृदु  भावों  के  अंगूरों  की
आज  बना  लाया  हाला,
प्रियतम,  अपने  ही  हाथों  से
आज  पिलाऊँगा  प्याला;
     पहले  भोग  लगा  लूँ  तेरा,
     फिर  प्रसाद  जग  पाएगा;
सबसे  पहले  तेरा  स्वागत
करती    मेरी    मधुशाला ।
              
                  2  
एक  बरस  में  एक  बार  ही
जगती  होली  की  ज्वाला,
एक  बार  ही  लगती  बाज़ी,
जलती  दीपों  की  माला;
    दुनिया  वालो, किन्तु, किसी  दिन
   आ  मदिरालय  में  देखो,
दिन  को  होली,  रात  दीवाली,
रोज    मनाती    मधुशाला !
              
                 3
धर्मग्रन्थ  सब  जला  चुकी  है
जिसके  अंतर  की  ज्वाला,
मन्दिर,  मस्जिद,  गिरजे-सबको
तोड़  चुका  जो  मतवाला,
      पंडित,  मोमिन,  पादरियों  के
      फंदों  को  जो  काट  चुका,
कर  सकती  है  आज  उसी  का
स्वागत    मेरी    मधुशाला ।

               4
दुतकारा  मन्दिर  ने  मुझको
कहकर  है  पीनेवाला,
ठुकराया  ठाकुरद्वारे  ने
देख  हथेली  पर  प्याला,
       कहाँ  ठिकाना  मिलता  जग  में
        भला  अभागे  काफ़िर  को ?
शरणस्थल  बनकर  न  मुझे  यदि
अपना    लेती    मधुशाला ।

                 5
पथिक  बना  मैं  घूम  रहा  हूँ,
सभी  जगह  मिलती  हाला,
सभी  जगह  मिल  जाता  साकी,
सभी  जगह  मिलता  प्याला,
        मुझे  ठहरने  का,  हे  मित्रो,
         कष्ट  नही  कुछ  भी  होता,
मिले  न  मन्दिर,  मिले  न  मस्जिद,
मिल   जाती   है   मधुशाला ।

                   6
मुसलमान  औ'  हिन्दू  हैं  दो,
एक,  मगर,  उनका  प्याला,
एक  मगर,  उनका  मदिरालय,
एक,  मगर,  उनकी  हाला;
         दोनों  रहते  एक  न  जब  तक
          मस्जिद - मन्दिर  में  जाते ;
बैर   बढ़ाते   मस्जिद - मंदिर,
मेल   कराती   मधुशाला !

                  7
कोई  भी  हो  शेख  नमाजी
या  पंडित  जपता  माला,
बैर  भाव  चाहे  जितना  हो,
मदिरा से  रखनेवाला,
          एक  बार  बस  मधुशाला  के
          आगे से होकर निकले,
देखूँ  कैसे  थाम  न  लेती
दामन   उसका   मधुशाला ।

                8
कभी  नहीं  सुन  पड़ता,  'इसने,
हा, छू दी  मेरी  हाला',
कभी  न  कोई  कहता, 'उसने
जूठा  कर  डाला  प्याला';
          सभी  जाति  के  लोग  यहाँ  पर
          साथ   बैठकर पीते   हैं;
सौ  सुधारकों  का  करती  है
काम   अकेली   मधुशाला ।

                9
नाम  अगर  पूछे  कोई  तो
कहना  बस  पीनेवाला,
काम  ढालना  और  ढलान
सबको  मदिरा  का  प्याला,
          जाति,  प्रिये,  पूछे  यदि  कोई,
          कह   देना   दीवानों   की,
धर्म  बताना,  प्यालों  की  ले
माला  जपना   मधुशाला ।

                   10
और  चिता  पर  जाय  उड़ेला
पात्र  न  घृत  का,  पर  प्याला,
घन्ट  बंधे अंगूर लता   में,
मध्य  न  जल  हो,  पर  हाला,
         प्राणप्रिये,  यदि  श्राद्ध  करो  तुम
         मेरा,  तो   ऐसे   करना -
पीनेवालों   को   बुलवाकर,
खुलवा देना   मधुशाला ।

कृपया  घर  मे  रहिये  सुरक्षित  रहिये


Comments

Popular posts from this blog

मेरी अनकही कहानी(4)

       वो  आखिरी  पल chapter(4)                       Last chapter               कई  बार  मोहब्बक्त  में  गलतफहमियां  हो  जाती  है,  और  उस  एक  गलतफहमी  का  मुआवजा  हम  पूरी  जिंदगी  भरते  है।...  अक्सर  सफर  और  मंज़िल के  बीच  मे  ही  प्यार  दम  तोड़  देता  है  और  यही  अधूरी  कहानियां  ही  हमारे  सफर  को  खूबसूरत  बनाती  है...  कुछ  ऐसी  ही  अधूरी  कहानी  है  मेरी  जिसे  एक  हसीन  मुकाम  देकर  छोड़  दिया  मैंने  और  आजतक  उस  मोहब्बक्त  को  ना  सही  पर  उस  एक  पल  को  यादकर  जरूर  मुस्कुराता  हूं,  जब  सच  मे  मुझे  एहसास  हुआ  कि  शायद  यही  प्यार  है। प्यार  ढूंढने  में  उतना  वक़्त  नही  लगता  जनाब!  जितना  उसे  समझने  और  समझाने  में  लगता  है।। मैं  बता  रहा  था  कि  अब  हमारी  मुलाकाते  बढ़ने  लगी  थी,  अब  अक्सर  कहू  तो  हम  हर  दूसरे  दिन  मिलते  थे।  खूब  सारी  बाते  होती  थी,  वो  मुझे  अपने  बारे  में  बताती  और  मैं  उसे  उसके  ही  बारे  में  बताता।...                         वो  कहती  कि  बहुत  बोलती  हु  ना  मैं!  मैं  कहता  तुम्हारा  खामोश  रहना  च

धर्म संघर्ष!

मैं   माफी  चाहता  हू   क्योंकि  ये  ब्लॉग  थोड़ा  लम्बा  हो  गया  है  पर  आप  सभी  से  एक  ही  बिनती  है  कि  इसे  आखिरी  तक  पढ़े - मैंने  पढ़ी  है  एक  किताब! जिसमे  लिखे  है  जीवन  सभ्यता  के  जवाब! जवाब  देने  वाले  का  होना  भी  एक सवाल  था। सबको  पता  है  ये  मुद्दा  राजनीति  के  लिए  बेमिसाल  था। मैं  करता  हु  सादर  प्रणाम  अपने  प्रभु  को, जिन्होंने  सिखायी  जीवन  जीने  की  सभ्यता  हम  सभी  को! ये  कहानी  उनकी  है  जिन्हें  जानते  सब  है,  पर  पहचानना  कोई  नही  चाहता  था। ये  कहानी  उनकी  है  जो  रहते  तो  सबके  दिलों  में  है,  पर  जुबान  पर  कोई  नही  लाना  चाहता  था। ये  कहानी  है  उनकी  जिन्हें  मानने  वालों  ने  उन्हें  सरआंखो  पर  बैठा  रखा  है। ये  कहानी  उनकी  है  जिन्हें  ना  चाहने  वालो  ने  आजतक,  बस  बहस  का  मुद्दा  बना  रखा  है। ये  कहानी  उनकी  है,  जो  पिछले  500वर्षों  से  अपनी  ही  जमीन  पर  अपना  हक  मांग  रहे  थे। ये  कहानी  उनकी  है,  जो  ना  जाने  कितने  ही  बरसो  से  बस  राजनेताओ  के  लिए  राजनीति  का  मुद्दा  बन कर  रह  गए 

आज़ादी...

आज  हमारे  74वें  स्वतन्त्रता  दिवस  की  आप  सभी  को  मेरे  और  मेरे  परिवार  की  तरफ  से  हार्दिक  बधाईया!    भगवान  करे  कि  अपने  देश  की  अखंडता  और  आज़ादी  को  हमसब  साथ  मिलकर  आगे  ले  जाये वैसे  तो  आज  आज़ादी  का  जश्न  मनाने  का  दिन  है,  पर  साथ  ही  साथ  कुछ  सोचने  का  दिन  भी  है,  की  हमसे  चूक  कहा  हुई  है... मेरा  नमन  है  उन  वीर  जवानों  को जिन्होंने  आज़ादी  के  लिए  अपने  प्राण  त्याग  दिए  और  उनको  जो  इस  तिरंगे  की  शान  को  हमेसा  ऊपर  उठाएं  रखने  के  लिए   आज  भी  इसकी सुरक्षा  में  खड़े  है...  आज  भी  भारत  देश  को  आज़ाद  रखने  के  लिए  अपने  प्राणों  की  आहुति  देने  से  पीछे  नही  हटते।                       ये  हमारे  देश  की  बिडम्बना  ही  है  कि  हम  जिस  आज़ादी  की  लड़ाई   74साल  पहले  जीते  थे  उस  जीत  के  सिर्फ  2,   4  नामो  के  अलावा  किसी  को  नही  जानते  है  या  कहू  की  हमे  पूरा  सच  बताया  ही  नही  गया  की  हमे  किसका  किसका  सम्मान  करना  है।  मैं  भी  इस  टॉपिक  को  छेड़ना  चाहता  हु  क्योंकि  मुझे  पता  है  कि  किसी  को  नही