Skip to main content

वो आखिरी मुलाकात



मुझे  याद  है  आज  भी  वो  आखिरी  मुलाकात...वो  आखिरी  लम्हा  जिसकी  परछाई  वक़्त  के  साथ  धुंधली  तो  पड़  गयी  पर  वो  चेहरा  आज  भी  कभी  कभी  यादों  की  बारात  लेकर  मेरे  सामने ऐसे आ  जाता  है,  जैसे  ये  सबकुछ  अभी  कल  की  बात  हो...


वो  जब  आयी  थी  उस  रोज  मुझसे  मिलने  तो  उसके  चेहरे  के  हाव-भाव  कुछ  अलग  ही  कहानी  बयां  कर  रहे  थे।
उसके  माथे  पर  वो  बिंदी  भी  नही  थी  जो  वो  अक्सर  सिर्फ  मेरे  लिए  लगाया  करती  थी।
वो  आंखों  के  काजल  काफी  हद  तक  धूल  चुके  थे,  जैसे  पूरी  रात  आंखों  से  बहते  आंसुओ  ने  उसके  गालो  पर  काली  लकीरे  बनाई  होंगी।
वो  जुल्फों  को  समेटकर  बांधे  हुए  थी  जैसे,  उसने  अब  वो  बालो  को  छोड़  मुझे  ना  रिझाने  का  फैसला  कर  लिया  हो।
वो  होठो  की  सुर्खियां  बता  रही  थी  कि  अब  उनपर  वो  खिलखिलाती  मुस्कान  नही  दिखेगी  जिन  के  आगे  मैं  हर  बार  हार  जाता  था।

वो  आयी  और  उसने  कहा  कि  इस  दुनिया  की  भीड़  में  बहुत  मिलेंगे  जो  तुम्हे  मुझसे  ज्यादा  चाहेंगे,  जो  तुम्हारी  खुशियो  को  और  बढ़ाएंगे,  जो  तुम्हारा  साथ  देने  को  पूरी  दुनिया  से  लड़  जाएंगे,  पर  मैं  तुम्हारे  प्यार  काबिल  नही  हू।  मैं  उन  सारे  वादों   को  आज  तोड़ने  आयी  हु,  जिसमे  मैंने   जिंदगी  भर  के  लिए  तुम्हारा  साथ  मांगा  था,  पर  ये  हो  ना  सका।  मैं  तो  इतनी  लाचार  हु  की  मैं  अपनी  जान  भी  नही  दे  सकती  और  फिर  ये  कहते  हुए  वहां  से  जाने  लगी  कि  अब  उस  मोहब्बक्त  की  किताब  को  जला  दो  जिसके  आखिरी  पन्ने  तक  पहुचना  नामुमकिन  है।

ऐसा  लग  रहा  था  जैसे  वो  आंसुओ  से  सौदा  कर  के  आयी  हो  कि  मेरे  सामने  वो  आंखों  से  बहेंगे  नही।

मैं  कुछ  बोल  नही  पाया  क्योंकि  पहले  ही  मिलने  पर  मेरे  कुछ  भी  ना  बोलने  का  उसने  वादा  लिया  था।

वो  क्या  था  न  कि  प्यार  तो  दोनों  ने  ही  पूरी  सच्चाई  से  किया  पर  इस  खोखली  दुनिया  के  दिखावे  में  सच्चाई  का  मोल  कहा।

और  कुछ  दूर  जाकर  वो  पलटी  और  दौड़कर  मेरे  गले  ऐसे  लगी  जैसे  इससे  पहले  हम  गले  लगे  ही  ना  हो,  ऐसे  जकड़ा  हमने  एकदूसरे  को  जैसे  बहती  हवाओ  ने  भी  हमारे  बीच  आने  से  मना  कर  दिया  हो  और  आखिर  में  उसने  मेरे  कानों  में  कहा  की  सबकुछ  नामुमकिन  सा  तो  है,  पर  तुम्हे  याद  कर  के  मुस्कुराने  का  जो  सुकून  है,  वो  काफी  है  जीने  के  लिए।  तुम्हारे  साथ  गुजरे  पलो  की  गवाही  ये  आंखे  ये  धड़कन  हमेशा  देती  रहेंगी,  की  कोई  मिला  था  मुझे  जो  मुझे  मुझसे  ज्यादा  चाहता  था  और  इस  बार  ख्याल  रखना  अपना  बोलते  हुए,  वो  वहां  से  चली  गयी  और  फिर  हम  कभी  नही  मिले।

लेकिन  जब  देखता  हूं  इन  उड़ते  बादलो  को  तो  लगता  है  जैसे  उसने  अपनी  आंखों  से  इनमे  रंग  भरकर  मुझतक  भेजा  है...  

और  बस  यूही  आसमानों  की  तरफ  देखते  देखते  सबकुछ  धुँधला  हो  गया।
और  इस  तरह  हमदोनो  का  एकदूसरे  के  लिए  वो  प्यार  गुजरा  हुआ  एक  लम्हा  हो  गया।

मोहब्बक्त,  इबादत,  दिल्लगी  और  ये  नशा  शराब  का।
कमबख्त  ये  दुनिया  क्या  समझेगी,  कर्ज़  उसके  दिए  गुलाब  का।




Comments

  1. I am a great fan of you😍😘

    ReplyDelete
  2. So interesting bro..I will be waiting for your new blog..
    I am ,your big fan.

    ReplyDelete
  3. Best part was the shayari❤️ loved that..

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yaa two lines are describe everything... Thank u

      Delete
  4. एक वायरस मेरा कीमती ख़जाना ले गया
    दोस्तों के साथ बैठे हुए जमाना हो गया..

    ReplyDelete
    Replies
    1. चाय की तफरी पर हर रोज़ साथ मुस्कुराते थे कई चेहरे।
      आज घण्टो से अकेला बैठा हूँ चाय की हाथो में लेकर।

      Delete
  5. You can't prisoned your love, It should be fly high in the sky like a dove. Dear Dove your happiness is my love. Awesome, tragic ending of the story but not really the love. The real love begins from here.

    ReplyDelete
    Replies
    1. I know, btt love is a word no one has understood, that's the feeling. Jise hr koi apne hisab se smjhta ar smjhata hai...

      Thanks for your kind review...

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पिता की जुबानी!

  तब सोचा था एक सुनहरा कल होगा। आज भले ही नौकर है कहि पर, पर कल अपना भी एक बड़ा घर होगा। आज लिखते हुए देखता हूं, अपने छोटे से बच्चे को तो बहुत गर्व होता है। खुद तो पढा लिखा नही हूं, पर उसका लिखा पढ़ लेता हूं। खूब मेहनत कर के उसे अच्छे स्कूल में भेजने की चाहत है। जो मैं ना पा सका वो सब उसे दिलाने की चाहत है। अब ड्यूटी डबल करने का समय आ गया है। मेरा बेटा अब स्कूल जाने के लायक हो गया है। उसकी फीस उसकी पढ़ाई में रुकावट ना बने, इसलिए थोड़ी बचत करने का समय आ गया है। मेरी बीवी की चाहते बिल्कुल खत्म सी हो गयी है। क्योंकि उसको भी बच्चे को पढाने की, फिक्र सी हो गयी है। उसे मालूम है पढ़ लिख जाएगा तो बड़ा साहब बनेगा, तब मेरी सारी इच्छाओं को वो, खुद ही पूरा करेगा। घर मे 24घण्टे रोशनी की व्यवस्था कर दी है। हम भले ही 2 रोटी कम खाये पर उसके लिए टिफ़िन की व्यवस्था कर दी है। अब तो बस फिक्र रहती है, कोई रुकावट न आये पढ़ाई में उसके। इधर उधर की आदतों को छोड़, उसके ट्यूशन की भी व्यवस्था कर दी है। छाती गर्व से फूल गयी माँ-बापू की, बेटे ने बोर्ड में टॉप किया। पर अंदर मन मे ये चिंता है, की अब बेटा स

Engineering Aur Pyaar (8) The End!

Chapter-8                  आने वाला कल( The End)      कई  बार  जब  हम  किसी  के  साथ  होते  है  या  जब  कोई  हमारा  बहुत  खास  बन  जाता  है,  तो  हमें  लगने  लगता  है  की  अब  यहां  से  हम  उसके  बिना  रह  नही  सकते  पर  जिंदगी  को  सुलझाने  में  हम  इतने  उलझ  जाते  है  कि  कुछ  तो  खुद  ही  भूल  जाते  है  हम  और  कुछ  भूल  जाने  का  नाटक  करते  है।           कॉलेज  के  फेयरवेल  के  कुछ  दिन  बाद  ही  हमारी  परीक्षाएं  शुरू  हो  गयी  थी,  क्योंकि  दोनों  की  परीक्षाएं  अलग  अलग  जगह  पर  थी  इसलिए  मुलाकात  नही  हो  पाती  थी।  सभी  को  इंतज़ार  था  कि  जैसे-तैसे  ये  सब  खत्म  हो  और  छुट्टियों  में  घर  जाया  जाए।  पर  इस  बार  मैं  नही  चाहता  था  कि  ये  परीक्षाएं  ये  दिन  खत्म  हो,  मैं  जैसे  समय  को  रोकने  की  सोच  में  था।  पर  ऐसा  मुमकिन  ना  था  और  हमारे  प्रैक्टिकल्स  वगैरह  सब  खत्म  हो  गए  और  2 महीने  की  छुट्टियां  हो  गयी  सब  अपने  अपने  घरों  को  चल  दिये  पर  मैं  बहाने  सोचने  में  था  लेकिन  उस  साल  हमारी  ट्रेनिंग  होनी  थी  तो  मुझे  मजबूरी  में  जाना  ही

Jindgi Aur Sapne (part-3)

# मंज़िल ~~~ कई  बार  हमें  अपनी  मंज़िल  पता  नही  होती  है,  पर  फिर  भी  हम  चलते  रहते  है  लेकिन  कहि  न  कही  रास्ते  के  किसी  मोड़  पर  जब  हम  कुछ  पल  के  लिए  रुकते  है,  तब  ख्याल  आता  है  कि  लोगो  को  देखकर  ये  जो  रास्ता  चुना  है  मैंने  क्या  इन  रास्तों  पर  चलते  हुए  कोई  मुझे  मुझ  जैसे  मिलेगा  या  फिर  शायद  एक  रोज़  इन  बेमन  के  रास्तों  पर  चलते-चलते  मैं  खुद  का  वजूद  कहि  खो  दूंगा  और  एक  दिन  शायद  किसी  मंज़िल  तक  मैं  पहुच  भी  जाऊं  लेकिन  अगले  ही  पल  मुझे  खुद  को  ढूंढना  होगा। मंज़िल  से  भटके  हुए  इंसान  पर  आधारित  एक  कविता  कृपया  इसे  पूरा  अवश्य  पढ़ें! धन्यवाद🙏 ~~~ मैं  तलाश  में  हू   खुद  के  ढूंढता  हू दर-ब-दर  अपने  ही  निशान! कभी  ख्यालो  के  पीछे  ढूंढता  हू   खुद  को, कभी  दरवाज़े  के  पीछे  तलाशता  हू ! किसी  आवाज़  का  पीछा  कर  लेता  हूं  यूही  कभी, कभी  लाख  चिल्लाने  पर  भी  सन्नाटा  पसरा  रहता  है! ना  जाने  कहा  खो  दिया  मैंने  खुद  को! कभी  परछाइयों  के  पीछे  भागता  हू , कभी  आईने  में  तलाशता  हू   खुद  को! कभी