Skip to main content

Engineering aur pyaar -4

 


         कुछ  एक  पल  में  कई  बार  हम  सदियां  जी  लेते  है।
        अपनी  मोहब्बक्त  को  करीब  पाकर  हम  यूही  मुस्कुरा  लेते  है।

यू  तो  वो  रात  उसके  नाम  की  थी  पर  उस  रात  की  कहानी  लिखने  का  हक़  मेरे  पास  था... मुझे  ये  तो  समझ  आ  चुका  था  कि  मेरी  कहानियों  में  वो  खोने  लगी  है।  वो  तलाशने  लगी  थी  खुद  को  मेरे  हर  लफ्ज़  में,  जैसे  उसे  समझ  आ  गया  था  वो  कॉलेज  वाली  लड़की  कोई  और  नही  बल्कि  वो  खुद  है  और  जिसकी  तारीफ  में  मैं  अपनी  पहचान  तक  भूल  गया  वो  तारीफ  उसी  की  है,  उस  रात  वहां  से  निकलने  से  जरा  पहले  ही  उसकी  और  मेरी  नजरे  टकरायी  और  ऐसा  लगा  जैसे  पलके  एक  बार  से  दूसरी  बार  झपकने  के  बीच  में  जो  वक़्त  लेती  है  वो  वक़्त  वही  ठहर  सा  गया  हो,  जैसे  उस  वक़्त  आस-पास  जो  कुछ  भी  हो  रहा  था  सब  थम  सा  गया  था।  इतने  में  किसी  ने  मुझे  आवाज़  दी  और  मैं  जैसे  किसी  ख्वाब  से  वापस  आया  था,  अब  जैसे  तैसे  उस  पार्टी  को  खत्म  कर  के  मैं  अपने  रूम  पर  पहुचा  पर  उस  कमबख्त  रात  ने  जैसे  ना  गुजरने  का  फैसला  कर  रक्खा  था।  उस  रात  को  गुजरने  में  अभी  कुछ  समय  और  बाकी  था  और  मैं  ख्यालो  से  गुफ्तगू  करने  में  व्यस्त  था  कि  इतने  में  मेरे  फ़ोन  पर  एक  मैसेज  आया...


    Chapter - 4
                      नखरा !...

उस  पार्टी  वाली  रात  की  थकान  के  बाद  कि  अगली  सुबह  ना  चाहते  हुए  भी  बहुत  हड़बड़ी  वाली  थी।  मैं  हर  रोज़  के  ही  वक़्त  पर  सुबह  उठा  पर  आज  मैं  कुछ  इतनी  जल्दी  में  था  कि  आज  मैंने  अपने  दोस्तो  के  साथ  का  इंतज़ार  तक  नही  किया,  और  अकेले  ही  कॉलेज  निकल  गया।  मेरा  हाल  कुछ  ऐसा  था,  की  जैसे  मैंने  किसी  को  वक़्त  दे  रक्खा  हो,  कोई  मेरे  इंतज़ार  में  हो  जैसे।  हड़बड़ी  कुछ  ऐसी  थी  कि  मैं  रिक्शे  वाले  को  बिना  पैसे  दिए  ही  जाने  लगा,  पर  मेरी  जल्दबाज़ी  अचानक  थम  सी  गयी  जब  मैं  कॉलेज  में  पहुचा  और  वहां  उसकी  स्कूटी  नही  थी  और  मेरी  नज़र  मेरी  घड़ी  पर  गयी  और  मैंने  देखा  की  अभी  तो  9  ही  बजे  है।
अब  मेरा  हाल  कुछ  ऐसा  था  कि,


इतने  में  पीछे  से  मेरे  सारे  दोस्त  आ  गए,  वो  सब  मुझे  वहां  देखकर  चौक  गए  और  सब  पूछने  लगे  कि  तू  यहां  पहले  से  आकर  क्या  कर  रहा  है...
'अब  उन्हें  ये  कैसे  बताउ  मैं  की  कल  रात  को  उसका  मैसेज  आया  था  मेरे  पास  की  आज  मिलना  है।'  तो  मैंने  उनसे  कहा  कि  यार  एक  नोट्स  लेना  था  इसलिए  पहले  ही  आ  गया।  अभी  हमसब  बात  ही  कर  रहे  थे  कि  इतने  में  वो  अपनी  स्कूटी  से  वहां  पहुची,  एक  लड़की  उसके  साथ  अक्सर  हुआ  करती  थी  लेकिन  आज  वो  अकेले  ही  आयी  थी।  मैं  दोस्तो  से  नजरें  चुराते  हुए  उसकी  तरफ  जैसे  ही  मुड़ा  उसने  अपनी  चुलबुली  सी  आंखों  से  मुझे  इशारा  किया  और  इशारों  में  उसने  मुझे  कॉलेज  की  छत  पर  बुलाया। अब  समस्या  ये  की  दोस्तो  से  अलग  निकलकर  जाए  कैसे,  मैं  कोई  भी  बहाना  करता  वो  सब  उसमे  साथ  आने  की  बात  करते  तो  मैंने  बोल  दिया  कि  भाई  तुमलोग  रुको  मुझे  सीनियर्स  से  थोड़ा  काम  है,  मैं  मिलकर  आता  हूं।  फिर  क्या  हा  भाई  बड़े  आदमी,  हा  भाई  अब  हमारे  साथ  कहा  रहोगे,  ये  वो  और  मैं  अपनी  ही  धुन  में  छत  की  तरफ  बढ़  गया। 



      हाल  कुछ  ऐसा  था  कि  जैसे  एग्जाम  देने  के  लिए  क्लास  की  तरफ   बढ़  तो  रहे  हो  पर  याद  कुछ  भी  ना  हो...

और  दिमाग  मे  उठ  रहे  लाखो  सवालो  से  लड़ते  हुए  मैं  ऊपर  छत  पर  पहुचा  और  देखा  की  वो  मुँह  फेरे  हुए  सीढ़ियों  से  थोड़ी  दूरी  पर  खड़ी  थी।  जैसे  ही  मैं  ऊपर  पहुँचा  तो  शायद  मेरे  जूतों  की  आवाज  सुनकर  वो  थोड़ी  हलचल  में  आई  और  पलटकर  मेरी  तरफ  घूम  गयी।
मैं  थोड़ी  ढली  हुए  आवाज  में  शरारत  के  लिए  उससे  बोला  "good  morning  mam" 
ये  सुनकर  उसने  कहा  "अच्छा  तो  याद  है  कि  तुम  जूनियर  हो  और  मैं  सीनियर"
मैं  बोला  "बिल्कुल  याद  क्यों  नही  रहेगा"
फिर  उसने  कहा  "अगर  ऐसा  है  तो  पूरे  कॉलेज  के  सामने  मेरे  बारे  में  तुम  कैसे  बोल  सकते  हो?" 
मैं  बोला  "मैंने  क्या  बोल  दिया"  

तो  वो  कहने  लगी  "मुझे  सब  पता  है  तुम्हारे  दिमाग  मे  क्या  चल  रहा  है,  तुम  ये  जो  बातों  को  गोल-गोल  घूमाते  हो  न  इसका  मुझपर  कोई  असर  नही  होने  वाला  है" 
मैं  बोले 
        जुबा  से  झूठ  कहने  वाले  आंखों  से  सच्चाई  बयां करते  है।
    हम  तो  शायर  है  बस  खुद  के  दिल  का  हाल  बयां  करते  है।

उसने  कहा  "बस  यही  तुम  कभी  कुछ  भी  साफ-साफ  नही  कहते  हो।"  
मैने  कहा  "तुम  सुन्ना  क्या  चाहती  हो।"
उसने  कहा  "बस  यही  की  मेरे  बारे  में  लिखना  बन्द  कर  के  अपनी  पढ़ाई  पर  ध्यान  दो,  और  मुझसे  थोड़ी  दूरी  बनाकर  रखो।"
पता  नही  क्यों  पर  उसके  हाव-भाव  उसकी  बातों  के  साथ  मेल  नही  खा  रहे  थे,  उसकी  आंखें,  उसका  चेहरा  जैसे  उसके  होठो  का  साथ  नही  दे  रहे  थे  और  इतने  में  वो  वहां  से  चली  गयी।


Chapter -5
                   तकरार !...

मेरे  कॉलेज  के  कुछ  सीनियर्स  को  ये  पता  लग  गया  था  कि  मैं  उनके  साथ  पढ़ने  वाली  किसी  लड़की  को  परेशान  कर  रहा  हू,  इसके  लिए  उन्होंने  मुझे  कॉलेज  के  बाहर  घेर  लिया  और...


Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी अनकही कहानी(4)

       वो  आखिरी  पल chapter(4)                       Last chapter               कई  बार  मोहब्बक्त  में  गलतफहमियां  हो  जाती  है,  और  उस  एक  गलतफहमी  का  मुआवजा  हम  पूरी  जिंदगी  भरते  है।...  अक्सर  सफर  और  मंज़िल के  बीच  मे  ही  प्यार  दम  तोड़  देता  है  और  यही  अधूरी  कहानियां  ही  हमारे  सफर  को  खूबसूरत  बनाती  है...  कुछ  ऐसी  ही  अधूरी  कहानी  है  मेरी  जिसे  एक  हसीन  मुकाम  देकर  छोड़  दिया  मैंने  और  आजतक  उस  मोहब्बक्त  को  ना  सही  पर  उस  एक  पल  को  यादकर  जरूर  मुस्कुराता  हूं,  जब  सच  मे  मुझे  एहसास  हुआ  कि  शायद  यही  प्यार  है। प्यार  ढूंढने  में  उतना  वक़्त  नही  लगता  जनाब!  जितना  उसे  समझने  और  समझाने  में  लगता  है।। मैं  बता  रहा  था  कि  अब  हमारी  मुलाकाते  बढ़ने  लगी  थी,  अब  अक्सर  कहू  तो  हम  हर  दूसरे  दिन  मिलते  थे।  खूब  सारी  बाते  होती  थी,  वो  मुझे  अपने  बारे  में  बताती  और  मैं  उसे  उसके  ही  बारे  में  बताता।...                         वो  कहती  कि  बहुत  बोलती  हु  ना  मैं!  मैं  कहता  तुम्हारा  खामोश  रहना  च

धर्म संघर्ष!

मैं   माफी  चाहता  हू   क्योंकि  ये  ब्लॉग  थोड़ा  लम्बा  हो  गया  है  पर  आप  सभी  से  एक  ही  बिनती  है  कि  इसे  आखिरी  तक  पढ़े - मैंने  पढ़ी  है  एक  किताब! जिसमे  लिखे  है  जीवन  सभ्यता  के  जवाब! जवाब  देने  वाले  का  होना  भी  एक सवाल  था। सबको  पता  है  ये  मुद्दा  राजनीति  के  लिए  बेमिसाल  था। मैं  करता  हु  सादर  प्रणाम  अपने  प्रभु  को, जिन्होंने  सिखायी  जीवन  जीने  की  सभ्यता  हम  सभी  को! ये  कहानी  उनकी  है  जिन्हें  जानते  सब  है,  पर  पहचानना  कोई  नही  चाहता  था। ये  कहानी  उनकी  है  जो  रहते  तो  सबके  दिलों  में  है,  पर  जुबान  पर  कोई  नही  लाना  चाहता  था। ये  कहानी  है  उनकी  जिन्हें  मानने  वालों  ने  उन्हें  सरआंखो  पर  बैठा  रखा  है। ये  कहानी  उनकी  है  जिन्हें  ना  चाहने  वालो  ने  आजतक,  बस  बहस  का  मुद्दा  बना  रखा  है। ये  कहानी  उनकी  है,  जो  पिछले  500वर्षों  से  अपनी  ही  जमीन  पर  अपना  हक  मांग  रहे  थे। ये  कहानी  उनकी  है,  जो  ना  जाने  कितने  ही  बरसो  से  बस  राजनेताओ  के  लिए  राजनीति  का  मुद्दा  बन कर  रह  गए 

आज़ादी...

आज  हमारे  74वें  स्वतन्त्रता  दिवस  की  आप  सभी  को  मेरे  और  मेरे  परिवार  की  तरफ  से  हार्दिक  बधाईया!    भगवान  करे  कि  अपने  देश  की  अखंडता  और  आज़ादी  को  हमसब  साथ  मिलकर  आगे  ले  जाये वैसे  तो  आज  आज़ादी  का  जश्न  मनाने  का  दिन  है,  पर  साथ  ही  साथ  कुछ  सोचने  का  दिन  भी  है,  की  हमसे  चूक  कहा  हुई  है... मेरा  नमन  है  उन  वीर  जवानों  को जिन्होंने  आज़ादी  के  लिए  अपने  प्राण  त्याग  दिए  और  उनको  जो  इस  तिरंगे  की  शान  को  हमेसा  ऊपर  उठाएं  रखने  के  लिए   आज  भी  इसकी सुरक्षा  में  खड़े  है...  आज  भी  भारत  देश  को  आज़ाद  रखने  के  लिए  अपने  प्राणों  की  आहुति  देने  से  पीछे  नही  हटते।                       ये  हमारे  देश  की  बिडम्बना  ही  है  कि  हम  जिस  आज़ादी  की  लड़ाई   74साल  पहले  जीते  थे  उस  जीत  के  सिर्फ  2,   4  नामो  के  अलावा  किसी  को  नही  जानते  है  या  कहू  की  हमे  पूरा  सच  बताया  ही  नही  गया  की  हमे  किसका  किसका  सम्मान  करना  है।  मैं  भी  इस  टॉपिक  को  छेड़ना  चाहता  हु  क्योंकि  मुझे  पता  है  कि  किसी  को  नही